Breaking News

आरबीआइ का घेराव नहीं कर पाए कांग्रेसी, पीएम पर बरसे..

चंडीगढ़ : नोटबंदी के विरोध में काग्रेस पार्टी ने बुधवार को सेक्टर-17 स्थित रिजर्व बैंक कार्यालय का घेराव करने की कोशिश की। पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन बंसल, हरियाणा कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर, चंडीगढ़ प्रदेशाध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा समेत हरियाणा और यूटी से पहुंचे सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने पहले मल्टीलेवल पार्किग परिसर में इकट्ठे होकर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और फिर रिजर्व बैंक के कार्यालय का घेराव करने की कोशिश की, लेकिन पुलिस के कडे़ बंदोबस्त के चलते प्रदर्शनकारी घेराव नहीं कर पाए। कांग्रेस ने बैंक के घेराव का पहले ही एलान कर दिया था, जिसके चलते बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था। बैंक के बाहर से गुजरने वाली सड़क को बैरिकेड लगाकर बंद दिया गया था। जैसे ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बैरिकेड लांघकर रिर्जव बैंक की शाखा की तरफ बढ़ना चाहा, तो पुलिस ने पानी की बोछारों छोड़नी शुरू कर दी। इसके बाद पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किया। जिसके चलते कांग्रेसी पीछे हट गए। एक घंटे तक चली खींचतान के बाद कांग्रेसी यहां से हटकर दोबारा मल्टीलेवल पार्किग में इकट्ठे हो गए। यहां पवन बंसल, अशोक तंवर, प्रदीप छाबड़ा और हरमोहिंदर सिंह लक्की ने रिजर्व बैंक के अधिकारियों को ज्ञापन सौंपकर नोटबंदी के दौरान लोगों को हो रही परेशानी के बारे में अवगत कराया।

देश में आर्थिक इमरजेंसी : तंवर

नेताओं ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए हरियाणा कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर ने कहा कि नोटबंदी से आर्थिक इमरजेंसी के जो हालात बने हैं, उससे तुरंत देश को बाहर निकालने की जरूरत है। उन्होंने कार्यकर्ताओं का धन्यवाद किया और नोटबंदी से हुए देश को हुए नुकसान की जानकारी जन-जन तक पहुंचाने की अपील की।

मोदी ने किसी को भरोसे में नहीं लिया : बंसल

पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन कुमार बंसल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपनी शक्तियों का गलत इस्तेमाल करते हुए देश को आर्थिक संकट में डाल दिया है। नोटबंदी का फैसला लेने से पहले मोदी ने न तो रिर्जव बैंक के अधिकारियों को अपने भरोसे में लिया और न ही अपनी कैबिनेट को। नतीजा यह निकला कि लोगों को अपने ही पैसे निकालने के लिए परेशान होना पड़ रहा है। असर अब दुनिया भी महसूस करने लगी है। जिसका नतीजा यह हुआ कि आइएमएफ ने भी माना है कि नोटबंदी के बाद देश की जीडीपी एक फीसद गिरने की उम्मीद है, अगर भारत की जीडीपी एक फीसद गिरती है, तो इससे देश को 150 लाख करोड़ रुपये का नुकसान होगा।

इस्तीफा दें पीएम : शुक्ला

प्रदर्शन के दौरान राज्यसभा सदस्य राजीव शुक्ला भी मौजूद रहे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के फैसले से देश को तो नुकसान हुआ ही है, साथ में आरबीआइ की छवि भी धूमिल हुई है। जितना सरकार को उम्मीद थी, उतना धन देश की जनता ने नोटबंदी के बाद बैंकों में जमा करवा दिया, ऐसे में सरकार बताए कि काला धन कहां है और कितनी मात्रा में उपलब्ध हुआ है। शुक्ला ने प्रधानमंत्री मोदी से इस्तीफे की मांग की।

ये नेता रहे मौजूद

प्रदर्शन के दौरान वरिष्ठ कांग्रेस नेता व चंडीगढ़ प्रभारी विप्लव ठाकुर, विधायक गीता भुक्कल, नरेश शर्मा, कैप्टन अजय सिंह यादव, बिल्लू कादियान, रणजीत चौटाला, शादीलाल बत्रा, आनंद सिंह दागी आदि नेता मौजूद रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*