ऑफ‍िस या घर के खराब वेंटिलेशन सिस्‍टम से भी वायु प्रदूषण, ‘आइसोप्रीन’ बनाता है बीमार

वायु प्रदूषण चाहे बाहरी हो या भीतरी (आउटडोर -इनडोर) दोनों ही स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक होते हैं। कमरे के भीतर होने वाले प्रदूषण के कारकों की पहचान करने के लिए किए गए एक अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि इसका एक कारण ऑफिस का खराब वेंटिलेशन सिस्टम और वहां काम करने वाले कर्मचारी भी होते हैं, जो कमरे के भीतर की हवा को प्रभावित करते हैं।

 

अमेरिकी की पर्डयू विश्वविद्यालय के इंजीनियरों की एक टीम ने विशेष प्रकार के सेंसरों की मदद से ऑफिस के भीतर की हवा की गुणवत्ता की जांच कर यह दावा किया है। इसे अपनी तरह का सबसे बड़ा अध्ययन बताया जा रहा है। शोधकर्ताओं ने कहा कि इस शोध का लक्ष्य भीतरी वायु प्रदूषण के कारकों की पहचान करना और उन्हें नियंत्रित करने के तरीकों की सिफारिश करना है ताकि ऐसी इमारतों को बनाया जा सके, जो लोगों के स्वास्थ्य के अनुकूल हों।

सिविल इंजीनियरिंग के सहायक प्रोफेसर ब्रैंडन बूर ने कहा, ‘अगर हम कार्यालय के भीतर की हवा की गुणवत्ता में सुधार करते हैं तो हम अपनी उत्पादकता को भी बढ़ा सकते हैं। लेकिन इसके लिए हमें पहले यह समझने की जरूरत है कि हवा में प्रदूषण फैलाने वाले कारक कौन-कौन से हैं और इन्हें कैसे हवा से अलग किया जा सकता है? शोधकर्ताओं ने कहा कि अध्ययन के परिणाम बताते हैं कि ऑफिस के अंदर की हवा को किसी अन्य कारकों के मुकाबले वहां काम करने वाले लोग और उसका खराब वेंटिलेशन सिस्टम ज्यादा प्रभावित करता है। शोधकर्ताओं ने इस अध्ययन के शुरुआती निष्कर्षो को ओरेगन के पोर्टलैंड में आयोजित अमेरिकन एसोसिएशन फॉर एरोसोल रिसर्च कांफ्रेंस में प्रस्तुत किया है।

बूर ने कहा, ‘कमरे के भीतर की हवा की स्थिति परिवर्तनशील होती है। यह पूरे दिन बाहरी परिस्थितियों के आधार पर बदलती रहती है। उन्होंने कहा कि यह भी महत्वपूर्ण है कि कमरे का वेंटिलेशन सिस्टम कैसे संचालित होता है और कार्यालय में काम करने वाले लोगों की संख्या कितनी है क्योंकि कमरे में जितने ज्यादा लोग होंगे हवा उतनी ही ज्यादा प्रदूषित होगी।’

‘नोज’ लगाकर किया अध्ययन

बूर ने आरजे ली ग्रुप के शोधकर्ताओं के साथ मिलकर कई स्थान पर अति संवेदनशील ‘नोज’ लगाए। इस उपकरण को वैज्ञानिक को स्पेक्ट्रोमीटर कहते हैं। इसकी मदद से आमतौर पर बाहरी हवा की गुणवत्ता की जांच की जाती है। अध्ययन के दौरान शोधकर्ताओं ने पाया कि लोगों के बाहर निकलने के बाद भी कमरे में आइसोप्रीन और कई अन्य यौगिक वातावरण में घूमते रहते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए हानिकार होते हैं। उन्होंने कहा कि जिस कमरे में जितने अधिक लोग होंगे, उसमें आइसोप्रीन का उत्सर्जन उतना ही ज्यादा होगा।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने अपने अमेरिकी समकक्ष डोनाल्ड ट्रंप को लिखा एक पत्र……

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने अपने अमेरिकी समकक्ष डोनाल्ड ट्रंप को एक पत्र लिखा है। …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com