गौतम गंभीर ने पाकिस्तान से क्रिकेट का किया विरोध |

लंबे समय बाद टीम इंडिया में वापसी करने के बाद राहत महसूस कर रहे ओपनर गौतम गंभीर ने पाकिस्तान से रिश्तों को लेकर जारी बहस के बीच उसके साथ क्रिकेट खेलने को लेकर अपनी राय दी है. उन्होंने कहा है कि पाकिस्तान की ओर से जारी आतंकवाद ने खेल संबंधों को नुकसान पहुंचाया है. इस समय पाक के साथ कोई सीरीज खेलना उचित नहीं होगा. उन्होंने यह भी कहा कि क्रिकेट से ज्यादा जरूरी भारतीयों का जीवन है. आइए जानते हैं कि उन्होंने और क्या कहा-

गौरतलब है कि हाल ही में उरी में सेना के कैंप पर हुए हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ तीखी प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं. जहां बॉलीवुड के हिस्से ने इस हमले के बाद पाक कलाकारों के भारत में काम करने को लेकर सवाल उठाए हैं, वहीं भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने पाक के साथ कई देशों वाले टूर्नामेंटों में भी नहीं खेलने का संकेत दिया है.
बीसीसीआई ने आईसीसी से कहा है कि भविष्य में वह दोनों देशों की टीमों को एक ही ग्रुप में नहीं रखें. उरी पर आतंकी हमले और फिर भारतीय सेना का नियंत्रण रेखा के पार लक्षित हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है जिसके कारण इस मसले पर बीसीसीआई की विशेष आमसभा की बैठक से इतर इस पर भी चर्चा की गई. बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने कहा था, ‘सरकार ने पाकिस्तान को अलग-थलग करने की नई रणनीति अपनाई है. उसे और देश की आम जनता की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए हमने आईसीसी से आग्रह किया है कि वह बहुराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में भारत और पाकिस्तान को एक ही ग्रुप में नहीं रखे.’

उन्होंने यह भी कहा था कि यदि दोनों टीमें सेमीफाइनल में पहुंचती है और एक-दूसरे से भिड़ती हैं तो यह अलग तरह की स्थिति होगी जिससे नहीं बचा जा सकता है. अगला बहुराष्ट्रीय टूर्नामेंट चैंपियन्स ट्रॉफी है जो सात महीने बाद ब्रिटेन में खेला जाएगा. भारत और पाकिस्तान के बीच पारंपरिक प्रतिद्वंद्विता को ध्यान में रखते हुए आईसीसी अधिक दर्शकों को खींचने के लिये बहुराष्ट्रीय टूर्नामेंट में अक्सर दोनों टीमों को एक ग्रुप में रखती रही है.

Check Also

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ को एयरपोर्ट पर उठानी पड़ी सर्मिंदगी

गेंद से छेड़छाड़ के मामले में दोषी पाए स्टीव स्मिथ के लिए मुश्किलें कम नहीं …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com