जंगल सफारी में 50 हेक्टेयर में विकसित हुआ नया चिड़ियाघर

नवा रायपुर अटल नगर स्थित नंदनवन जंगल सफारी में चिड़ियाघर (जू) का शनिवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लोकार्पण किया। उद्घाटित जंगल सफारी चिड़ियाघर में वन्य प्राणियों के लिए कुल 37 बाड़े होंगे। लगभग 50 हेक्टेयर क्षेत्र में विकसित किए जा रहे इस चिड़ियाघर में अभी 11 बाड़े बनाए गए हैं। चिड़ियाघर में प्राकृतिक परिवेश में दो ह्वाइट टाइगर, 4 लायन, 2 रायल बंगाल टाइगर, 2 लेपर्ड, 2 हिमालयन बियर, 2 हिप्पोपोटेमस, 2 घड़ियाल, 20 ताजे पानी में पाए जाने वाले कछुए, 4 बेंगाल मॉनिटर लिजार्ड, 13 स्टार कछुए, 8 क्रोकोडायल अलग-अलग बाड़े में रखे गए हैं। नए वन्य जीवों के जंगल सफारी में आने से अब यहां जैव विविधता बढ़ी है। इसके साथ ही देश की पहली मैन मेड जंगल सफारी में अब सैलानियों का रूझान बढ़ेगा। इसे लेकर स्थानीय लोगों में भी काफी उत्साह देखने को मिल रहा है। सरकार भी उस प्रोजेक्ट पर विशेष ध्यान दे रही है।

देश में अनूठा होगा यह चिड़ियाघर

राज्य सरकार वन्य प्राणियों और वनों के संरक्षण तथा संवर्धन के लिए दृढ़ संकल्पित है। वन विभाग द्वारा विकसित जंगल सफारी और चिड़ियाघर देश में अनूठा है। भविष्य में यहां और भी नए वन्य प्राणी आएंगे। वन्य प्राणियों के लिए सुविधाएं विकसित की जाएंगी। यहां आने वाले पर्यटकों के लिए भी अच्छी व्यवस्था की जाएगी। मुख्यमंत्री ने सफारी जू में अलग-अलग वन्य प्राणियों के लिए बनाए गए बाड़ों का भी लोकार्पण किया।

नंदनवन जू में बनेंगे 7 नए बाड़े

इस वर्ष नंदनवन जू में सात नए बाड़े बनाए जाएंगे, जिनमे ब्लैक बक, लकड़बग्घा, लोमड़ी, सियार, नील गाय, बार्किंग डियर और सांभर रखे जाएंगे। उल्लेखनीय है कि नवा रायपुर स्थित जंगल सफारी लगभग 270 हेक्टेयर में विकसित की गई है, जिसमें प्राकृतिक परिवेश में शाकाहारी वन्य प्राणी, 125 चीतल, 50 ब्लैकबक , 20 सांभर, 9 बार्कंिग डियर, 20 नील गाय, 5 भालू और 2 भालू के बधो, 4 टाइगर और 7 लायन वर्तमान में है।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्विटर प्रोफाइल से हटाया भाजपा!

नई दिल्‍ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री व भारतीय जनता पार्टी के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com