जब मकान मालिक ने किराया न देने पर पूर्व प्रधानमंत्री का सामान बाहर फिंकवा दिया था

गत लोकसभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी ने सासंदों व सत्ताधीशों की विलासितापूर्ण जीवनशैली के खिलाफ सादगी को भी मुद्दा बनाया था. लेकिन इस बार इस मुद्दे का कुछ अता पता ही नहीं है. कभी यह सादगी हमारे सांसदों के बीच एक स्थापित परंपरा हुआ करती थी.

गुलजारीलाल नंदा, जिन्होंने देश की संकट की घड़ी में कुछ समय के लिए प्रधानमंत्री पद का कार्यभार भी संभाला, जीवन भर किराये के साधारण से मकान में रहे. एक बार किराया नहीं दे पाये तो मकान के मालिक ने उनका सामान बाहर फिंकवा दिया था.

बैंक में भी वे अपने पीछे दो हजार चार सौ चौहत्तर रुपये ही छोड़ गए थे. उन्हीं जैसे कांग्रेस के एक उच्चविचार के सादगीपसंद नेता थे- रफी अहमद किदवई. देश की आजादी से अपने निधन तक वे केंद्र में मंत्री रहे. लेकिन उनके न रहने पर उनकी पत्नी और बच्चों को उत्तर प्रदेश में बाराबंकी के टूटे-फूटे पैतृक घर में वापस लौट जाना पड़ा.

पंडित नेहरू के मंत्रिमंडल में श्रम मंत्री आबिद अली साइकिल से ही संसद आते-जाते थे और एक समय उनके पास कपड़ों का दूसरा जोड़ा भी नहीं था. रात में लुंगी पहनकर कपड़े धोते और सुखाकर उसे ही अगले दिन पहनकर संसद जाते थे.

नौ बार सांसद रहे कम्युनिस्ट नेता इंद्रजीत गुप्त ने कभी अपने लिए कोई बंगला आवंटित नहीं कराया. उनकी अपनी गाड़ी भी नहीं थी. जहां भी जाते, ऑटो रिक्शे में बैठकर अथवा पैदल जाते.

उन्हीं की तरह हीरेन मुखर्जी भी नौ बार सांसद रहे. वे सारा वेतन और भत्ता पार्टी कोष में दे देते और 200 रुपये में महीने भर गुजारा करते थे. सांसद एचवी कामथ की कुल संपत्ति थी-एक झोले में दो जोड़ी कुर्ता पायजामा. हालांकि वे पूर्व आईसीएस भी थे.

समाजवादी सांसद भूपेंद्र नारायण मंडल यात्राओं के वक्त अपना सामान खुद अपने कंधे पर उठाते थे और चुनाव क्षेत्र में बैलगाड़ी से दौरे करते

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

हरियाणाः चुनावी मोड में आए CM मनोहर लाल खट्टर, जन आशीर्वाद यात्रा आज से

हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने तैयारियां शुरू कर दी …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com