जानिए क्यों ? ऑस्ट्रेलिया में सभी अख़बारों का मुख्य पृष्ठ छापा गया काला

ऑस्ट्रेलिया में एक अभूतपूर्व घटना हुई है, यहां सोमवार सुबह देश के सभी अखबारों का पहला पन्ना काला छापा गया। अखबारों ने देश में मीडिया पर अंकुश लगाने के प्रयासों का विरोध करने के लिए ये कदम उठाया है।

अखबारों का कहना है कि ऑस्ट्रेलिया सरकार का कड़ा कानून उन्हें लोगों तक जानकारियां पहुंचा पाने से रोक रहा है। अखबारों ने पन्ने काले रखने का ये तरीका इस वर्ष जून में ऑस्ट्रेलिया के एक बड़े मीडिया समूह ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन (ABC) के मुख्यालय और एक जर्नलिस्ट के घर पर छापे मारने की घटना को लेकर जारी विरोध के तहत उठाया था।

ये छापेमारी व्हिसलब्लोअर्स से लीक हुई जानकारियों के आधार पर प्रकाशित किए गए कुछ लेखों के बाद की गई थी। अखबारों के इस अभियान – राइट टू नो कोएलिशन – का कई टीवी, रेडियो और ऑनलाइन समूहों द्वारा भी समर्थन किया जा रहा हैं। ये अभियान चलाने वालों का कहना है कि पिछले दो दशकों में ऑस्ट्रेलिया में ऐसे कड़े सुरक्षा कानून लागू किए हैं जिससे खोजी पत्रकारिता को खतरा पहुंच रहा है।

गत वर्ष नए कानूनों लाए गए जिसके बाद मीडिया संगठन पत्रकारों और व्हिसलब्लोअर्स को संवेदनशील मामलों की रिपोर्टिंग में रियायत दिए जाने के लिए अभियान चला रहे हैं। सोमवार को देश के सबसे बड़े अखबार और उसके प्रतियोगियों ने एकजुटता दर्शाते हुए अपने मुख पृष्ठों पर लिखे गए सारे शब्दों को काली स्याही से पोत दिया और उन पर एक लाल मुहर भी लगा दी, जिस पर लिखा था- “सीक्रेट”। इन अखबारों का कहना है कि राष्ट्रीय सुरक्षा कानूनों के कारण रिपोर्टिंग पर अंकुश लगाया जा रहा है और देश में एक “गोपनीयता की संस्कृति” बन गई है।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

डीएमआरसी का यात्रियों को तोहफा, मेट्रो स्टेशनों पर मिलेगी ई-स्कूटर की सुविधा

30 लाख से अधिक यात्रियों को यात्रा सुविधा उपलब्ध करवाने वाले दिल्ली मेट्रो रेल निगम …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com