Breaking News

सेना के नाम पर मंगाई दवाइयां बाजार में बेची, फर्जी मांगपत्र तैयार कर कंपनी को दिया धोखा

आयुध निर्माणी और सेना के अस्पताल के नाम पर कंपनी से दवा मंगाकर डिस्ट्रीब्यूटर ने निजी अस्पतालों को बेच दी। इसके लिए उसने फर्जी मांग पत्र तैयार किए, जिसकी वजह से उसे कम दरों पर दवाएं उपलब्ध हो गईं। इस तरह उसने करीब 75 लाख रुपए की दवाएं मंगाई। बाद में पोल खुली तो इंडिको रेमेडीज लिमिटेड ने डिस्ट्रीब्यूटर के खिलाफ वाड़ी थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है।
इंडिको रेमेडीज लिमिटेड की ओर से आयुध निर्माणी और सेना के अस्पताल में दवा की आपूर्ति की जाती है। इस कंपनी के यहां डिस्ट्रीब्यूटर चंद्रा इंटरप्राइजेज के संचालक दिनेश चंद्रा गुप्ता है। आरोप है कि 3 अप्रैल 2014 से 2 मई 2016 के बीच दिनेश ने आयुध निर्माणी और सेना के अस्पताल के नाम से दवाओं का फर्जी मांग पत्र तैयार िकया। उसके बाद वह मांग पत्र कंपनी को भेज दिया। तीन वर्ष के भीतर कंपनी दिनेश को करीब 75 लाख रुपए की दवाइयां कम दरों पर भेज चुकी है।
आरोप है कि दिनेश ने निजी अस्पतालों और खुले बाजार में विक्रेताओं को इन दवाओं को बेचा है। आयुध निर्माणी और सेना के अस्पताल से बार-बार दवाओं की मांग किए जाने से कंपनी को संदेह हुआ। कंपनी के अधिकारी मनीष शेट्टी ने अपने स्तर पर इसकी पड़ताल शुरू की। तब जाकर पोल खुली। दिनेश के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। फिलहाल दिनेश फरार है। आशंका है कि इस खेल में दिनेश के साथ कुछ अन्य लोगों की भी मिलीभगत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*