भाजपा को घेरा शिवसेना और एनसीपी ने, कहा- राष्‍ट्रपति शासन होगा सीधा सीधा जनादेश का अपमान पढ़िए –

भाजपा को अभी तक घेरने वाले सिर्फ शिवसेना के लोग थे , लेकिन बहती गंगा में हाथ धुलने अब एनसीपी भी मैदान में उतर चुकी है | महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल नौ नवंबर को खत्म हो जाएगा। राज्‍य में सरकार बनेगी या राष्‍ट्रपति शासन लागू होगा इस बारे में आज सस्‍पेंस खत्‍म भी हो सकता है। कल राज्यपाल बीएस कोश्यारी ने कानूनी पहलुओं और संवैधानिक मुद्दों पर महाधिवक्ता आशुतोष कुंभकोणी से राजभवन में चर्चा की थी। इस बीच भाजपा और शिवसेना के बीच तनातनी चरम पर पहुंच चुकी है। इसे देखते हुए जल्द सरकार गठन के आसार कम हैं और राष्ट्रपति शासन की आशंका गहराने लगी है। महाराष्ट्र के पूर्व महाधिवक्ता श्रीहरि एनी ने बताया कि नौ नवंबर के बाद सरकार गठन के सारे विकल्‍प बंद हो जाएंगे क्‍योंकि कानून में इसका प्रावधान नहीं है।
इस बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने शुक्रवार को कहा कि यदि महाराष्‍ट्र में राष्‍ट्रपति शासन लागू होता है तो यह राज्‍य के लोगों का अपमान होगा। यह गलत और संविधान के खिलाफ होगा। उन्‍होंने कहा कि मुझे अटल बिहारी वाजपेयी का वह संदेश याद है कि हम भागेंगे नहीं, लड़ेंगे और अंत में जीतेंगे। महाराष्ट्र कभी नहीं झुकेगा। विधायकों की खरीद फरोख्‍त के आरोपों पर राउत ने कहा कि महाराष्ट्र में यदि कोई कर्नाटक दोहराने की कोशिश कर रहा है तो वह अपनी कोशिश में सफल नहीं होगा।

बता दें कि भाजपा नेताओं के प्रतिनिधिमंडल ने कल यानी गुरुवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात भी की लेकिन सरकार बनाने का दावा पेश नहीं किया। एक ओर शिवसेना अपना मुख्यमंत्री बनाने की मांग पर अड़ी हुई है तो वहीं दूसरी ओर भाजपा सीएम पद पर किसी समझौते को तैयार नहीं दिख रही है। कल राज्यपाल से मिलने से पहले प्रतिनिधिमंडल में शामिल वरिष्‍ठ भाजपा नेता सुधीर मुनगंटीवार ने कहा कि हम राज्यपाल के पास सरकार बनाने का दावा करने नहीं जा रहे हैं। भाजपा किसी भी सूरत में अल्पमत की सरकार नहीं बनाएगी।

कल शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने विधायकों के साथ बैठक की। इसके बाद पार्टी के सभी विधायकों को एक होटल में भेज दिया गया। शिवसेना ने कल कहा था कि भाजपा को एलान करना चाहिए कि वह सरकार बनाने में सक्षम नहीं हैं। इसके बाद हम कदम बढ़ाएंगे। शिवसेना नेता संजय राउत ने भाजपा पर आरोप लगाया था कि वह सरकार गठन में देरी कर राष्ट्रपति शासन थोपने की स्थिति बना रही है। उन्‍होंने कहा कि भाजपा नेता कल राज्यपाल से मिलने गए थे लेकिन खाली हाथ लौट आए क्योंकि उनके पास बहुमत का आंकड़ा नहीं है।

चुनाव नतीजे आने के 15 दिन बाद भी महाराष्ट्र में समय रहते सरकार नहीं बन पाना ऐतिहासिक है। महाराष्‍ट्र के 59 वर्षों के सियासी इतिहास में केवल दो बार राष्ट्रपति शासन रहा है। सन 1980 में फरवरी से जून और बाद में साल 2014 में सितंबर से अक्टूबर तक महज 33 दिन तक राष्ट्रपति शासन लागू हुआ था। शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कल कहा था कि शिवसेना को मुख्यमंत्री पद देना हो तो भाजपा नेता हमें फोन करें अन्‍यथा नहीं तो जनता के सामने जाकर बताएं कि हम विपक्ष में बैठना चाहते हैं।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

अयोध्या मामले पर क्या कह गए बॉलीवुड के सितारे ,आप भी पढ़िए-

अयोध्या मामले से कौन अनजान है,और जब फैसला आने की बात हुयी उस वक्त हर …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com