Breaking News

ये कहानी नहीं है बल्कि हकीकत में ‘होते हैं ऐसे कुंड’

धरती पर ऐसी कई जगह हैं। जहां पर पानी के कुंड में गर्म पानी होता है। इन कुंड में यदि स्नान किया जाए तो कई तरह के चर्म रोग दूर होते हैं।

यह कुंड धार्मिक स्थलों के नजदीक ही मौजूद हैं। जिसके कारण गर्म पानी के इन कुंड के प्रति लोगों की आस्था और अधिक बढ़ जाती है।

# अत्रि जल कुंड, ओडिशा: यहां सल्फर युक्त गर्म पानी के कुंड हैं। यह जलकुंड भुवनेश्वर से 42 कि.मी. दूर स्थित है। इस कुंड के पानी का तापमान 55 डिग्री है।

# यूमेसमडोंग सिक्किम: ये कुंड 15500 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यूमेसमडोंग में 14 सल्फर के जल से युक्त कुंड हैं। जिनका तापमान लगभग 50 डिग्री रहता है।

# बकरेश्वर जल कुंड पश्चिम बंगाल: पश्चिम बंगाल के भ्रमण स्थलों में एक अलग पहचान है, क्योंकि यहां गर्म पानी के 10 कुंड स्थित है। जिसमे सबसे गर्म कुण्ड, अग्नि कुण्ड 67ºC है।

# मणिकरण हिमाचल प्रदेश: गर्म पानी का यह कुंड कुल्लू से 45 किलोमीटर दूर है। यहां के जल में अधिक मात्रा में सल्फर, यूरेनियम व अन्य रेडियोएक्टिव तत्व पाए जाते हैं। इस पानी का तापमान बहुत अधिक है।

# राजगीर के जल कुंड: पटना के समीप राजगीर में गर्म पानी का कुंड है। पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान ब्रह्मा के मानस पुत्र राजा बसु ने राजगीर के ब्रह्मकुंड परिसर में एक यज्ञ का आयोजन कराया था। इसी दौरान आए सभी देवी-देवताओं को एक ही कुंड में स्नान करने में परेशानी होने लगी। तभी ब्रह्मा ने यहां 22 कुंड और 52 जलधाराओं का निर्माण कराया था। वैभारगिरी पर्वत की सीढिय़ों पर मंदिरों के बीच गर्म जल के कई झरने हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*