Breaking News

रूठाेें को मनाने में जुटी BJP, गुटबाजी खत्‍म करने के लिए सामने आए बड़े नेता

नवाब सिंह नागर केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से दिल्ली स्थित उनके आवास पर मिलने पहुंचे और अपना दर्द बयां किया। उनके साथ करीब दो दर्जन कार्यकर्ता भी साथ रहे। नोएडा  जिले में भाजपा की गुटबाजी को समाप्त कराने के लिए हाईकमान सक्रिय हुआ है। सूत्रों का कहना है कि हाईकमान को लगने लगा है कि यदि जिले में गुटबाजी समाप्त नहीं कराई गई तो चुनाव में नुकसान उठाना पड़ सकता है।

दो दिन पहले पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मोर्य ने केंद्रीय मंत्री डा. महेश शर्मा से बात करने के नाराज चल रहे पूर्व सिंह मंत्री नवाब सिंह नागर से बात की। भविष्य में नागर को पार्टी में समायोजित करने का भरोसा दिलाकर चुनाव प्रचार में जुट जाने को कहा गया।

बृहस्पतिवार देर रात नवाब सिंह नागर केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से दिल्ली स्थित उनके आवास पर मिलने पहुंचे और अपना दर्द बयां किया। उनके साथ करीब दो दर्जन कार्यकर्ता भी साथ रहे। सूत्रों का कहना है कि राजनाथ सिंह ने फोन कर नवाब सिंह नागर को दिल्ली बुलाया था, लेकिन नागर का कहना है कि वह स्वयं गृहमंत्री से मिलने उनके आवास पहुंचे थे। वहीं राजनाथ सिंह से मुलाकात के बाद नागर की नाराजगी कम हुई है और वह पार्टी हित में प्रचार के लिए राजी हो गए हैं। पार्टी ने उन्हें तीनों विधान सभा सीटों पर प्रचार करने को कहा है।

जिले में केंद्रीय मंत्री डा. महेश शर्मा का गुट पूरी तरह से हावी है। जिलाध्यक्ष से लेकर कार्यकारणी के पदाधिकारियों की तैनाती में डा. महेश शर्मा की चली है। उन्होंने सभी जाति और वर्गों को ध्यान में रखकर जिला कार्यकरणी गठित कराई। एक तरह से उन्होंने पार्टी की नई पौध जिले में तैयार की। कार्यकारणी से गठन से जिले में कोई असंतोष नजर नहीं आया था, लेकिन दूसरे गुट की अगुवाई कर रहे नवाब सिंह नागर ने अपने करीबियों को जिला कार्यकरणी में शामिल न करने के आरोप लगाए थे। अब टिकट बंटवारे में भी डा. महेश शर्मा सब पर भारी पड़े।

जेवर और दादरी में उनकी मर्जी से ठाकुर धीरेंद्र सिंह और मास्टर तेजपाल लागर टिकट मिला। जिले में गुर्जर और ठाकुर दो बड़ी जातियां हैं। दोनों जातियों के प्रत्याशियों को टिकट दिलाकर उन्होंने साधने का काम किया। लेकिन दादरी विधान सभा सीट से नवाब सिंह नागर का टिकट कटने से पार्टी का एक धड़ा नाराज है। नागर और उनके समर्थक अभी चुनाव मैदान कही नजर नहीं आ रहे थे। जिले की कमान पूरी तरह से केंद्रीय मंत्री डा. महेश शर्मा ने संभाल रखी है। यह भी पढ़ें: सोनिया गांधी, राम माधव के नाम पर ठगी, पुलिस ने किया गिरफ्तार हाईकमान ने दोनों गुटों से बात कर उन्हें मिलाने का प्रयास किया है, ताकि पार्टी को चुनाव में नुकसान न उठाना पड़े। हाईकमान से बातचीत के बाद नवाब सिंह नागर ने नरमी के संकेत देते हुए कहा कि वह पार्टी प्रत्याशियों को जीतने के लिए पूरी ताकत लगाएंगे। पार्टी का हित उनके लिए सर्वोपरि है। दोनों गुटों कितने करीब आएंगे, यह तो भविष्य ही बताएगा, लेकिन फिलहाल स्थितियों को भांपकर दोनों ही गुट एक साथ खड़े नजर आ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*