Breaking News

31 नरकंकाल

देहरादून. उत्तराखंड सरकार ने केदारनाथ ट्रैक पर 31 नरकंकाल मिलने की पुष्टि की। सीएम हरीश रावत ने सोमवार को कहा, ”सर्च टीम को मिले 23 नरकंकालों का अंतिम संस्‍कार किया जा चुका है, बाकी का डीएनए टेस्ट किया जा रहा है।” बता दें कि कुछ दिन पहले गांववालों ने त्रियुगीनारायण-केदारनाथ ट्रैक पर करीब 50 नरकंकाल देखने का दावा किया था। सरकार ने आईजी संजय गुंज्याल के साथ एक टीम मौके पर भेजी थी।
– मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 2013 में केदारनाथ में आई प्राकृतिक आपदा में हजारों लोगों की मौत हुई थी। ये नरकंकाल भी उन्हीं के हो सकते हैं।
– आशंका है कि ये लोग आपदा के बाद रास्ता भटक कर घने जंगल में फंस गए और भूख-प्यास से उनकी मौत हो गई।
– रूद्रप्रयाग के डीएम राघव लंघर ने कहा कि नरकंकाल केदारनाथ घाटी के घने जंगल में 10-12 KM एरिया में मिले बिखरे मिले। अब तक ऑफिशियली 360 नरकंकाल मिल चुके हैंjagran-3
बीजेपी ने सीएम रावत को घेरा
– नरकंकालों के मामले में बीजेपी नेता प्रकाश पंत ने कहा कि आपदा के बाद सरकार ने इस ट्रैक पर सही तरीके से सर्च ऑपरेशन नहीं चलाया। इसीलिए आज भी नरकंकाल मिल रहे हैं। ये रावत सरकार की लापरवाही है।
– बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष अजय भट्ट ने कहा, ‘मुख्यमंत्री केदारनाथ में कैलाश खेर के साथ संगीत उत्सव मना रहे हैं, दूसरी ओर केदारनाथ के पास ही नरकंकाल बिखरे पड़े हैं। ये सरकार की संवेदनहीनता दिखाता है।”
– दूसरी ओर, हरीश रावत ने इसकी पूरी जिम्मेदारी पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के सिर मढ़ते हुए कहा कि उन्होंने ही कहा था कि आपदा के बाद अब कोई शव जंगल में नहीं बचा है। इसके हम कैसे जिम्मेदार हुए।
10 हजार लोगों के मारे जाने का अनुमान
– बता दें कि 16 जून, 2013 को आपदा के बाद सितंबर में राज्य सरकार ने लापता लोगों की लिस्ट जारी की थी। जिसमें 92 विदेशी नागरिकों समेत 4120 लोगों के नाम थे।
– हालांकि करीब 10 हजार लोगों के केदारघाटी में समा जाने का अनुमान था। यहां आए श्रद्धालुओं के परिजनों ने करीब 6500 लोगों के गुमशुदगी दर्ज कराई गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*