केदारनाथ में श्रद्धालुओं की यात्रा बढ़ती संख्या से प्रशासन हुआ अलर्ट, वी आईपी एंट्री पर लगाई रोक

उत्तराखंड के केदारनाथ धाम में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को देखते हुए अब प्रशासन ने वीआईपी एंट्री पर रोक लगा दी है. राज्य के डीजीपी अशोक कुमार  ने शुक्रवार को मीडिया को बताया कि अब वीआईपी विजिटर आम यात्रियों की तरह ही दर्शन करेंगे.

अशोक कुमार ने बताया, ‘केदारनाथ धाम दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की उमड़ती भीड़ को देखते हुए मंदिर के लिए वीआईपी एंट्री रोक दी गई है. प्रशासन के अनुसार, वीआईपी विजिटर अब आम यात्रियों की तरह ही दर्शन करेंगे. पिछले छह दिनों में ही, 1 लाख 30 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने दर्शन किए हैं.’

वार्षिक चार धाम यात्रा शुरू हुए एक सप्ताह हो चुका है, इस दौरान राज्य प्रशासन की कुव्यवस्था की पोल हर धाम में खुलती नजर आ रही है. केदारनाथ के अलावा बद्रीनाथ और यमुनोत्री में भी व्यवस्था लचर है. यमुनोत्री में पुलिस अधिकारियों की वीआईपी एंट्री को लेकर श्रद्धालुओं ने हंगामा भी किया था. भीड़ अधिक हो जाने की वजह से लोगों को चलने का रास्ता नहीं मिल रहा है.

चारधाम यात्रा से बदइंतजामी के अलावा श्रद्धालुओं की मौत की खबरें भी आ रही हैं. अब तक 26 श्रद्धालुओं की अलग-अलग वजहों से मौत हो गई हैं, इनमें से अकेले 10 मौतें केदारनाथ में हुई हैं. बढ़ती भीड़ को देखते हुए अब आईटीबीपी और एनडीआरएफ की टीमें केदारनाथ धाम में तैनात की जा रही हैं. 

बता दें कि 2020 और 2021 में कोरोना के दौरान चारधामा यात्रा करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में गिरावट आई थी, लेकिन लगता है कि जो लोग पिछले बार यात्रा नहीं कर पाए थे इस बार वह कमी को पूरी लेना चाहते हैं. अगर आंकड़ों पर गौर करें तो, 2020 में 2.20 लाख और 2021 में 2.42 लाख लोगों ने केदारनाथ धाम के दर्शन किए थे, लेकिन इस बार आलम यह है कि बीते एक सप्ताह में ही 1.30 लाख से अधिक यात्री केदारनाथ की यात्रा कर चुके हैं.

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

प्लेइंग इलेवन पर अजय जडेजा ने उठाए सवाल इस खिलाड़ी को बाहर करने पर जताई हैरानी

पूर्व भारतीय क्रिकेटर अजय जडेजा ने पंजाब किंग्स की प्लेइंग इलेवन के सिलेक्शन पर सवाल …