आखिर कब तक निर्दोष देते रहेगे अपनी जान की बली

Edited By-Priya Bajpai

SC/ST एक्ट में संशोधन को लेकर सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए प्रदर्शनकारियों ने सोमवार (2 अप्रैल 2018) को भारत बंद का फैसला किया था .भारत के विभिन राज्यों में जैसे उत्तर प्रदेश, मध्र्य प्रदेश,बिहार के कई जिलों में प्रदर्शन ने हिंसा का रूप ले लिया था .आप को बात दे कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस विरोध प्रदर्शन में काफी लोगो ने अपनी जान भी गवा दी है और सैकड़ों लोग घायल हुए हैं कुछ मौते तो ऐसे भी हुई है जिसको अगर सही वक़्त पर उपचार मिल जाता तो आज वो अपनी जिंदगी जी रहे होते .

ये भी पढ़े -आज का राशिफल ,जाने कैसे होगा आपका दिन

जानिए निर्दोष लोगो ने कैसे  गवई अपनी जिंदगी

एक मौत तो ऐसे भी हुई है जो आपका दिल दहला देगी ,एक बच्चे ने अपनी माँ की कोख में ही दम तोड़ दिया. दूसरी दर्दनाक खबर बिहार के है जहा वैशाली में हाजीपुर-महनार मार्ग पर बंद समर्थकों ने जाम लगा दिया। इसमें एक ऐंबुलेंस भी फंस गई। रिपोर्ट्स के मुताबिक इस ऐंबुलेंस में मोहम्मद कदील नाम के शख्स अपनी बेटी के नवजात शिशु को लेकर अस्पताल जा रहे थे।जन्म के बाद से ही शिशु की तबीयत खराब थी लेकिन घरवाले उसे अस्पताल नहीं ले जा सके। ऐंबुलेंस में ही नवजात की सांसें थम गईं।

Related image

रुड़की: गर्भस्थ शिशु की जान गई
भारत बंद का असर उत्तराखंड में भी व्यापक रहा। यहां रुड़की में बंद की वजह से एक प्रेगनेंट महिला को समय से अस्पताल नहीं पहुंचाया जा सका। इस वजह से गर्भ में ही शिशु की मौत हो गई। महिला को डिलिवरी के लिए एक प्राइवेट गाड़ी से अस्पताल ले जाया जा रहा था। यह गाड़ी भारत बंद के जाम में फंस गई और इलाज मिलने में देर हो गई क्या सच में भारत देश दंगो की भेट चढ़ जायेंगे ,क्या ऐसे ही निर्दोष लोग अपनी जान खोलते रहेंगे कब ये देश समझेगा के इन तरीको से कुछ हासिल नहीं होगा बस नुकसान  ही होगा.

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

उत्तर प्रदेश

उप्र : सड़क हादसे में 2 छात्र नेताओं सहित 4 की हुई मौत

लखनऊ | उत्तर प्रदेश के मऊ जिले में एक तेज रफ्तार कार सड़क किनारे के …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com