सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस

सुशांत सुसाइड केस में SC पहुंची बिहार सरकार, कहा…

एंटरटेनमेंट डेस्‍क। बॉलीवुड के युवा अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड केस में बिहार सरकार ने शीर्ष अदालत में कैविएट के साथ एक अर्जी भी दाखिल की है, जिसमें राज्य सरकार ने कहा कि बिहार पुलिस द्वारा मामले की जांच को जारी रहने दिया जाए। सरकार ने रिया चक्रवती की उस मांग का विरोध किया है, जिसमें रिया ने कहा है कि जब तक उसकी याचिका सुप्रीम कोर्ट में लंबित रहती है तब तक बिहार पुलिस को आगे की जांच से रोका जाए।

यह भी पढ़ें: लखनऊ में एक दिन में मिले सर्वाधिक 485 मामले, अब तक 4,178 सक्रिय केस

वहीं, पटना उच्च न्यायालय में एक पत्र याचिका दायर की गई है, जिसमें पटना राज्य पुलिस से केंद्रीय जांच ब्यूरो को जांच स्थानांतरित करने की मांग की गई है।

उधर, सुसाइड केस में आरोपों से घिरी रिया चक्रवर्ती ने सुशांत के परिवार पर संगीन आरोप लगाए हैं। केस पटना से मुंबई ट्रांसफर करने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका में रिया का आरोप है कि पटना में एफआइआर दर्ज कराने में सुशांत के बहनोई एडीजी ओपी सिंह ने दबाव बनाया।

दोस्त पर दबाव बनाने का आरोप

अभिनेत्री रिया का ये भी आरोप है कि सुशांत सिंह राजपूत के दोस्त सिद्धार्थ पिठानी को ओपी सिंह और मीतू ने रिया पर सवाल उठाने को कहा था। रिया के अनुसार, सिद्धार्थ ने मुंबई पुलिस को इसकी जानकारी दी थी। सिद्धार्थ ने मुंबई पुलिस को ईमेल भेजा था कि 22 जुलाई को ओपी सिंह और सुशांत की बहन मीतू ने उन्हें फोन करके रिया और उसके ऊपर सुशांत की तरफ से किए गए खर्च को लेकर सवाल उठाने को कहा था।

ईडी ने मांगी पटना पुलिस से केस की डिटेल्‍स

वहीं, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पटना पुलिस से सुशांत सिंह की एफआइआर की जानकारी मांगी है। सुशांत के पिता की एफआइआर में सुशांत के अकाउंट से करीब 15 करोड़ रुपए निकालने की बात कही गई थी, जिसका आरोप रिया पर लगाया गया है। ईडी ने मामले में पैसे के लेन देन को लेकर भी सारी जानकारी मांगी है। उधर, बिहार पुलिस भी मुंबई में सुशांत सिंह के अकाउंट खंगाल रही हैं।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

आठवी क्लास मे हुआ था रणवीर को पहला प्यार, ‘लड़की ने रो कर कहा तुम पर भरोसा नही’

एंटरटेनमेंट डेस्क बॉलीवुड के कई सितारे फिल्मों के अलावा अपनी निजी जिंदगी की वजह से …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com