Breaking News

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर लगा आचार संहिता के उल्लंघन काआरोप

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर अचार संहिता का उल्लंघन का इलज़ाम लगा है. वही दूसरी तरफ कांग्रेस की कर्नाटक इकाई ने ध्रुवीकरण का भी आरोप लगाया है। राज्य में कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने शुक्रवार (30 मार्च, 2017) को मांग की कि शाह को राज्य बदर किया जाए। दरअसल शाह पर आरोप है कि भाजपा के एक कार्यकर्ता की मौत के बाद उसके परिवार को कथित तौर पर पांच लाख रुपए देकर उन्होंने आचार संहिता का उल्लंघन किया।

 

ये भी पढ़े – यूपीए गटबंधन के विधायक ने दी तीखी परक्रिया, बोले सार्वजनिक करो मेरा वोट

 

कांग्रेस के दावों को खारिज करते हुए भाजपा ने कहा है कि शाह ने पार्टी कार्यकर्ता राजू के परिवार को कोई पैसा नहीं दिया। राव ने यहां पत्रकारों को बताया, ‘अमित शाह को कर्नाटक नहीं आना चाहिए क्योंकि उनकी मंशा बहुत साफ है- चुनावी माहौल को दूषित करना और कानून का उल्लंघन करना। आज की घटना इसका बेहतरीन उदाहरण है।’ चुनाव की तारीखें घोषित होने के बाद राजू के परिवार से मिलने को लेकर राव ने कहा, ‘मुलाकात के दौरान परिवार को पांच लाख रुपए दिए गए थे…. यह साफ है, क्योंकि मां( राजू की मां) ने बयान दिया है कि उन्हें पांच लाख रुपए दिए गए।’

 

मार्च 2016 में भाजपा कार्यकर्ता राजू की मैसूर में हत्या हो गई थी जिससे इलाके में तनाव पैदा हो गया था। इसे साफ तौर पर आचार संहिता के उल्लंघन का मामला करार देते हुए राव ने कहा, ‘यह एक गंभीर अपराध है, क्योंकि उन्होंने चुनावों के दौरान धन दिया है। मुझे यह भी सूचना मिली है कि मीडिया पर नियंत्रण की कोशिशें हुई हैं।’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस चुनाव अधिकारियों के समक्ष इस बाबत शिकायत दाखिल करेगी।

 

उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग को अमित शाह को कर्नाटक आने से रोकना चाहिए। राव ने आगे कहा, ‘…. उनकी दुर्भावनापूर्ण मंशा, चालबाजियां, गैर- कानूनी गतिविधियां दिखाती हैं कि वह अपराधी जैसा बर्ताव कर रहे हैं।’ शाह और येदियुरप्पा के अतीत में जेल जाने की तरफ इशारा करते हुए राव ने कहा कि चुनाव आयोग को येदियुरप्पा के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। अमित शाह को राज्य बदर करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*