सावधान! इस बीमारी से पीड़ित मरीजों पर भारी पड़ सकती है ठंड, रखें ख्याल

सावधान! इस बीमारी से पीड़ित मरीजों पर भारी पड़ सकती है ठंड, रखें ख्याल…

सर्दियों के महीनों में कई तरह की बीमारियों के जल्द होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

खासकर दिल के मरीजों के लिए सर्दियाँ खतरनाक साबित हो सकती हैं।

चिकित्सकों के मुताबिक सर्दियों में दिल का दौरा पड़ने के चांसेस बढ़ जाते हैं।

ऐसे मामले सर्दियों में ज्यादा देखें को मिलते हैं।

अगर बात करें कि किस वक्त दौरा पड़ने के चांसेस के खतरे की तो यह खासतौर पर सुबह के समय होता है, क्योंकि उस वक्त रक्त वाहिकाएं सिम्पेथेटिक ओवर एक्टिविटी के कारण संकुचित होती हैं और अगर वातावरण में धुआं हो तो जोखिम दोगुना हो सकता है।

चिकित्सकों के मुताबिक, सर्दियों में  हवा की धीमी गति और नमी के स्तर में वृद्धि हो जाती है।

इस कारण से धुएं की स्थिति बिगड़ने लगती है, क्योंकि प्रदूषित तत्व हवा में नीचे बने रहते हैं और इधर-उधर फैल नहीं पाते हैं।

हार्ट केयर फाउंडेशन (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, “सर्दियों के शुरुआती दिनों के दौरान अधिक धुंध और स्मॉग आम है।

सर्दियों में बारिश के दौरान हवा में नमी होने पर तापमान में गिरावट आती है।

जबकि, खुष्क या जाती हुई सर्दियों में फॉग या स्मॉग गायब या कम हो जाता है और ठंडी हवाएं भी बंद हो जाती हैं।”

एक अध्ययन के मुताबिक, वायु की खराब गुणवत्ता या धुआं सबसे खराब प्रकार के दिल के दौरे का एक महत्वपूर्ण कारण है, जिससे समय से पहले मौत हो सकती है।

दिल की समस्या वाले लोगों के लिए इन दिनों अधिक जोखिम रहता है।

डॉ. अग्रवाल ने बताया, “स्मॉग से आखें लाल पड़ सकती हैं, खांसी या गले में जलन, सांस लेने में कठिनाई हो सकती है।

स्मॉग से तीव्र अस्थमा के दौरे पड़ सकते हैं, साथ ही यह दिल के दौरे, स्ट्रोक , एरिदमिया को भी बढ़ा सकता है”।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

अगर आप भी इस वेलेंटाइन अपने पार्टनर को करना चाहते है खुस तो अपनाइये ये टिप्स

  साल की शुरूआत जनवरी महीने में त्योहारों के साथ हो चुकी है. वहीं दूसरा …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com