धर्म

भगवान शिव के तांडव करते वक्त भैरव भी करते हैं नृत्य,

भारत में जिन देवी देवताओं की पूजा-अर्चना, सात्विक व तामसी दोनों विधियों से की जाती है, उनमें कलियुग के जाग्रत देव भैरवनाथ प्रथम गण्य हैं। शिवभक्त और देवी भक्त दोनों के मध्य पवित्र स्थान धारण करने वाले भैरव देव भगवान शंकर के पूर्णावतारों में अंतिम हैं, जिन्हें रुद्रावतार भी कहा जाता है। धर्म-साहित्य में इन्हें सप्तमातृका देवी के भ्राता और …

Read More »

आज है महायोग, 68 साल बाद पुनः आया “महाकार्तिक पूर्णिमा”

अयोध्या.  कार्तिक पूर्णिमा का पर्व पूरे देशभर में श्रद्धा के साथ मनाया जा रहा है। आचार्यों का कहना है कि 68 साल बाद ऐसा संयोग हुआ है कि सोमवार को कार्त‌िक पूर्णिमा लग रही है, इसे सोमवती पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। कार्तिक पूर्णिमा मेले का प्रमुख पर्व पूर्णिमा स्नान सोमवार भोर से है। हालांकि स्नान का …

Read More »

क्या आप ऐसे मनाते है, ”गुरु नानक जयंती” ये है अनमोल लाभ

श्री गुरु नानक देव जी का जन्म राय भोए की तलवंडी में 1469 ई. में मेहता कल्याण दास जी के घर माता तृप्ता जी की कोख से हुआ। आप जी के जन्म दिन को लेकर अलग-अलग इतिहासकारों की अलग-अलग धारणाएं हैं। कुछ इतिहासकार मानते हैं कि आपका जन्म 15 अप्रैल, 1469 ई. (वैसाख सुदी 3, 1526 विक्रमी) को हुआ तथा …

Read More »

भगवान विष्णु बने परशुराम, आखिर क्यों हुआ ऐसा

परशुराम राजा प्रसेनजीत की पुत्री रेणुका और भृगुवंशीय ऋषि जमदग्नि के पुत्र, विष्णुके अवतार और शिव के परम भक्त थे । इन्हें शिवसे विशेष परशु प्राप्त हुआ था । इनका नाम राम था, किन्तु शंकरद्वारा प्रदत्त अमोघ परशुको सदैव धारण कर रखनेके कारण ये परशुराम कहलाते थे । विष्णु के दस अवतारों में से छठा अवतार, जो वामन एवं रामचन्द्र …

Read More »

वैकुंठ चतुर्दशी पर हरि-हर मिलन,उमड़े हजारो भक्त

उज्जैन। वैकुंठ चतुर्दशी पर शनिवार-रविवार की दरमियनी रात गोपाल मंदिर में हरि-हर मिलन हुआ। देव मिलन के दुर्लभ दृश्य को देखने के लिए हजारों भक्त मौजूद थे। महाकालेश्वर मंदिर से रात 11 बजे भगवान महाकाल रजत पालकी में सवार होकर शाही ठाठ बाट के साथ गोपाल मंदिर की ओर रवाना हुए। महाकाल घाटी, गुदरी, पटनी बाजार होते हुए सवारी रात …

Read More »

अपनी इच्छाओं की पूर्ति करने के लिए करे ये उपवास,होगा फलदायक

रविवार का दिन सूर्य देव की पूजा स्तुति को समर्पित है. अगर आपके मन में कई सारी इच्छाएं और मनोकामनाएं है तो आप रविवार का व्रत कर सकते हैं. सूर्य देव का व्रत सबसे श्रेष्ठ माना जाता है क्योंकि यह व्रत सुख और शांति देता है. कैसे करें इस व्रत की पूजा और कथा आइए जानें… पौराणिक धार्मिक ग्रंथों में …

Read More »

शादी से पहले जान लीजिए ये आवश्यक बातें

महर्षि वात्स्यायन द्वारा लिखित ग्रंथ कामसूत्र में वैवाहिक जिंदगी के लगभग सभी पहलुओं को विस्तार से बताया गया है। उनका यह ग्रंथ जितना उस समय प्रासंगिक था उतना ही आज तर्कसंगत माना गया है। इसी ग्रंथ में महिला और पुरुष के बीच आपसी संबंध की समस्त कलाओं के बारे में विस्तार से बताया गया है। जिसका जिक्र सार्वजनिक रूप से …

Read More »

इस ऋषि पुत्र ने बनाया था शनिदेव को

शनिदेव, सूर्य और छाया के पुत्र हैं। लेकिन उनका एक पैर टूटा हुआ है। यह पैर कैसे टूटा? इसके बारे में पौराणिक ग्रंथों में एक कथा का उल्लेख मिलता है। बहुत समय पहले एक ऋषि थे, उनका नाम था कौशिक और उनके पुत्र थे पिप्पलाद। एक बार पिप्लाद की क्रोध भरी मारक दृष्टि के प्रकोप से शनिदेव सीधे नीचे जमीन …

Read More »

आप खुश रहना चाहते है तो लगाएं रत्नों का पौधा

रत्नों का पौधा सुनने में भी भले ही काल्पनिक लगे किन्तु वास्तविकता यही है कि चीनी पद्धति में इस पौधे का अधिक महत्व है। यह पौधा तरह-तरह के रत्नों और स्फटिकों का बना होता है। इसमें कई वैरायटीज होती हैं। – नवरत्न पेड़ ग्रनवहों की शांति, सुख तथा पारिवारिक शांति के लिए उपयोग किया जाता है। एमेथिस्ट का पेड़ दिमाग …

Read More »

आज का व्रत रखने के जानिए फायदे

शुक्रवार के दिन मां संतोषी का व्रत-पूजन किया जाता है। इस पूजा के अंत में माता की कथा सुनी जाती है। संतोषी माता और शुक्रवार व्रत की कथा निम्न है: संतोषी माता व्रत कथा  एक बुढ़िया थी, उसके सात बेटे थे। 6 कमाने वाले थे जबकि एक निक्कमा था। बुढ़िया छहों बेटों की रसोई बनाती, भोजन कराती और उनसे जो कुछ जूठन …

Read More »

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com