विशाखापट्टनम में जहरीली गैस का रिसाव, आठ लोगों की मौत

हैदराबाद। आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में गुरुवार सुबह एक फार्मा कंपनी में गैस रिसाव का मामला सामने आया है। आरआर वेंकटपुरम गांव में हुई इस घटना में आठ लोगों की मौत हो गई, जबकि 800 से ज्यादा लोग अस्पताल में भर्ती हैं। फिलहाल, गैस के रिसाव पर काबू पा लिया गया है। स्थानीय प्रशासन और नेवी ने फैक्ट्री के पास के गांवों को खाली करा लिया है। घटना को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एनडीएमए की आपात बैठक बुलाई है, जिसमें केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और रक्षामंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद हैं।

यह भी पढ़ें: प्रयागराज में खूनी मंजर, एक ही परिवार के तीन सदस्‍यों की निर्मम हत्या

विशाखापट्टनम में हुई घटना पर प्रधानमंत्री ने कहा कि घटना के संबंध में गृह मंत्रालय और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) के अधिकारियों से बात की है, मामले की कड़ी निगरानी की जा रही है। मैं विशाखापट्टनम में सभी की सुरक्षा और भलाई के लिए प्रार्थना करता हूं।

शाह बोले- गैस लीक की घटना परेशान करने वाली

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि विजग में गैस लीक की घटना परेशान करने वाली है। हम लगातार और करीब से घटना की निगरानी कर रहे हैं। मैं विशाखापट्टनम के लोगों की भलाई के लिए प्रार्थना करता हूं।

बताया जा रहा है कि आरआर वेंकटपुरम में स्थित विशाखा एलजी पॉलिमर कंपनी से खतरनाक जहरीली गैस का रिसाव हुआ है। इस जहरीली गैस के कारण फैक्ट्री के तीन किलोमीटर के इलाके प्रभावित हैं। सरकारी अस्पताल में आठ लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 20 लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। इसमें अधिकतर बुजुर्ग और बच्चे हैं। बताया जा रहा है कि सरकारी अस्पताल में 150-170 लोग भर्ती कराए गए हैं। इसके अलावा कई लोगों को गोपालपुरम के प्राइवेट अस्पताल में भी भर्ती कराया गया है। 1500-2000 बेड की व्यवस्था कर ली गई है। फिलहाल, पांच गांव खाली करा लिए गए। सैकड़ों लोग सिर दर्द, उल्टी और सांस लेने में तकलीफ के साथ अस्पताल पहुंच रहे हैं।

गैस रिसाव पर पाया गया काबू

घंटों मेहनत के बाद रिसाव पर काबू पा लिया गया है। इसके साथ ही फैक्ट्री के आस-पास से 3 हजार लोगों का रेस्क्यू किया गया है। अभी 170 लोगों को हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है। मुख्‍यमंत्री जगन मोहन रेड्डी भी विशाखापट्टनम के लिए रवाना हो गए हैं। साथ ही पूरे घटना की जांच शुरू कर दी गई है।

पीवीसी या स्टेरेने गैस का रिसाव

विशाखापट्टनम नगर निगम के कमिश्‍नर श्रीजना गुम्मल्ला ने कहा कि शुरुआती रिपोर्ट के अनुसार पीवीसी या स्टेरेने गैस का रिसाव हुआ है। रिसाव की शुरुआत सुबह 2:30 बजे हुई। गैस रिसाव की चपेट में आस-पास के सैकड़ों लोग आ गए और कई लोग बेहोश हो गए, जबकि कुछ लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है। हालांकि, गैस लीकेज के असली कारण का अभी पता नहीं चल पाया है।

कमिश्‍नर गुम्‍मल्‍ला ने कहा कि फिलहाल मौके पर विशाखापट्टनम के जिलाधिकारी वी विनय चंद पहुंच गए हैं और हालात पर नजर बनाए हुए हैं। उनका कहना है कि दो घंटे के अंदर हालत को नियंत्रण में कर लिया गया। कुछ लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है, उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट दिया जा रहा है।

1961 में हुई थी एलजी पॉलिमर्स इंडस्‍ट्री की स्‍थापना

एलजी पॉलिमर्स इंडस्ट्री की स्थापना 1961 में हिंदुस्तान पॉलिमर्स के नाम से की गई थी। कंपनी पॉलिस्टाइरेने और इसके को-पॉलिमर्स का निर्माण करती है। 1978 में यूबी ग्रुप के मैकडॉवल एंड कंपनी लिमिटेड में हिंदुस्तान पॉलिमर्स का विलय कर लिया गया था और फिर यह एलजी पॉलिमर्स इंडस्ट्री हो गई।  

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

मीटू मामले में फंसे अनुराग कश्‍यप! इन एक्‍ट्रेसेस का मिला साथ, इन्‍होंने किया विरोध  

एंटरटेनमेंट डेस्‍क। बॉलीवुड अभिनेत्री पायल घोष ने दावा किया है कि फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com