अब ड्रैगन का नया पैंतरा, कहा- चीन का दुश्मन…  

वर्ल्‍ड डेस्‍क। लद्दाख सीमा पर चीन की तरफ से की जा रही घुसपैठ की कोशिश आग में घी डालने का काम कर रही है। मानसून सत्र की शुरुआत से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन को कड़े शब्दों में जवाब दिया है। वहीं, चीन की तरफ से दोनों देशों के बीच शांति बहाली की बात कही जा रही है।

यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में 311 पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित, पांच की मौत

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने कहा है कि बीजिंग ने नई दिल्ली को लेकर अपने रूख में कोई परिवर्तन नहीं किया है। गौरतलब है कि इस अखबार ने कई दफा भारत के साथ युद्ध करने की बात को दोहराया था। ग्लोबल टाइम्स ने कहा, हम भारत को दुश्मन की तरह नहीं देखते हैं। भारत को लेकर हमारी नीति में कोई बदलाव नहीं आया है। द्विपक्षीय संबंधों को स्थिर और मजबूत बनाने के लिए हम भारत से सहयोग करने के लिए तैयार हैं। इसने कहा, पुरानी स्थिति बहाल होने में थोड़ा वक्त जरूर लगेगा, दोनों देशों को एक दूसरे से मुलाकात करते रहना होगा।

पीएम मोदी ने चीन को दिया कड़ा संदेश

वहीं, संसद के मानसून सत्र के शुरू होने से पहले मीडिया को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, जब तक दवाई नहीं तब तक कोई ढिलाई नहीं। हम चाहते हैं कि दुनिया के किसी भी कोने से जल्द से जल्द इसकी वैक्सीन विकसित हो, हमारे वैज्ञानिक सफल हों और हम इस समस्या से सभी को बाहर निकालने में सफल हों। मुझे विश्वास है कि सभी सदस्य मिलकर संदेश देंगे कि पूरा देश जवानों के साथ खड़ा है जो सीमा पर डटकर मातृभूमि की रक्षा कर रहे हैं। जवान दुर्गम पहाड़ियों में देश की रक्षा के लिए डटे हुए हैं।

चीन करवा रहा जासूसी

उधर, बताया गया है कि चीन की कुछ कंपनियों द्वारा भारत में जासूसी की जा रही है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय मंत्री तक, मुख्यमंत्री से लेकर सेना के वरिष्ठ अफसरों तक की जासूसी की जा रही है। इसके अलावा, देश के प्रमुख उद्योगपतियों से लेकर वरिष्ठ अधिकारी भी चीन के निशाने पर हैं।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

मुंबई की सड़कें जलमग्न, UP-बिहार सहित आठ राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट

नई दिल्‍ली। बंगाल की खाड़ी से लेकर अरब सागर तक में मानसून के इस सीजन …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com