भारतीय सेना से पस्‍त चीन का पैंतरा, देश की बड़ी हस्तियों की कर रहा जासूसी

नई दिल्‍ली। भारत और चीन के बीच लद्दाख सीमा पर हालात इस कदर बिगड़ चुके हैं कि दोनों देशों के बीच युद्ध की स्थिति तक बन रही है। वहीं, चीन की नापाक हरकत को लेकर एक और खुलासा हुआ है। बताया गया है कि चीन की कुछ कंपनियों द्वारा भारत में जासूसी की जा रही है।

यह भी पढ़ें: दिल्ली हिंसा मामले में उमर खालिद गिरफ्तार, UAPA के तहत हुई गिरफ्तारी

चीन द्वारा भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय मंत्री तक, मुख्यमंत्री से लेकर सेना के वरिष्ठ अधिकारियों तक की जासूसी की जा रही है। इसके अलावा, देश के प्रमुख उद्योगपतियों से लेकर वरिष्ठ अधिकारी भी चीन के निशाने पर हैं। एक अंग्रेजी अखबार ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि शेनजेन बेस्ड चीनी कंपनी ‘झेनझुआ डाटा इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी कंपनी लिमिटेड’ भारत में करीब 10,000 लोगों की निगरानी कर रही है। इस कंपनी का चीन की सरकार और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी से सीधा संबंध है।

इन लोगों की हो रही जासूसी

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि ‘झेनझुआ डाटा इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी कंपनी लिमिटेड’ की ओर से जिन भारतीयों पर नजर रखी जा रही है। उनमें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, अशोक गहलोत, अमरिंदर सिंह, उद्धव ठाकरे, नवीन पटनायक और शिवराज सिंह शामिल हैं। इसके अलावा, केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, रविशंकर प्रसाद, निर्मला सीतारमण, स्मृति ईरानी और पीयूष गोयल सहित अन्य लोग शामिल हैं। वहीं, सीडीएस बिपिन रावत और सेना, नौसेना और वायुसेना के 15 पूर्व प्रमुख समेत आला अधिकारी भी चीन की निगरानी में हैं।

लोकसभा में कांग्रेस ने दिया स्थगन प्रस्ताव

वहीं, कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी और के सुरेश ने लोकसभा में लद्दाख में चीनी घुसपैठ को लेकर स्थगन प्रस्ताव दिया है। कांग्रेस के लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि सरकार चीन पर अपना रुख साफ करे। उन्होंने चीन द्वारा जासूसी के मुद्दे को भी उठाया। उन्होंने कहा कि चीन भारत की बड़ी हस्तियों की जासूसी कर रहा है। भारत की जासूसी होना चिंता की बात है। चीन की ‘झेनझुआ डाटा इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी कंपनी लिमिटेड’ जासूसी कर रही है।

कांग्रेस नेता और तिरुवनंतपुरम सांसद शशि थरूर ने कहा कि सरकार संसद के प्रति जवाबदेह है। रक्षा और विदेश मंत्रियों (भारत और चीन के बीच) की वार्ता पर उन्होंने हमें कब सूचना दी है? सरकार को विश्वास में लेने की जरूरत है। हम अपनी सेना के साथ मजबूती के साथ खड़े हैं।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

मुंबई की सड़कें जलमग्न, UP-बिहार सहित आठ राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट

नई दिल्‍ली। बंगाल की खाड़ी से लेकर अरब सागर तक में मानसून के इस सीजन …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com