दिल्ली हाई कोर्ट
161919590

दवाइयों की ऑनलाइन बिक्री पर आया दिल्ली हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, जानें?

दवाइयों की ऑनलाइन बिक्री पर आया दिल्ली हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, जानें?

बढ़ती तकनीकियों की वजह से अब हर चीज़ आसानी से मिल जाती। अगर हम चाहे तो ऑनलाइन साइट की मदद से घर बैठे खाना, कपड़े, घरेलू समान, फैशन से जुड़े सामान यहां तक की दवाइयाँ भी मंगवा सकते हैं, लेकिन कभी-कभी यह आराम दायक साधन हमपर महंगा पड़ सकता है। इन्हीं सब चीजों को देखते हुए दिल्ली हाई कोर्ट ने ऑनलाइन बिक रही दवाइयों की बिक्री पर रोक लगा दी है।

ऑनलाइन बिक रहीं दवाइयों के मद्देनजर दिल्ली हाई कोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए आदेश दिया है कि दिल्ली सरकार बोर्ड द्वारा लगाए जा रहे बैन को सख्ती से लागू करें। जहीर अहमद की तरफ से लगाई गई याचिका पर सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने कहा लोगों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ नहीं किया जा सकता और इस पर तुरंत लगाम लगाने की जरूरत है।

दरअसल, याचिकाकर्ता ने हाई कोर्ट को बताया कि हर रोज लाखों की तादाद में  ऑनलाइन दवाइयों को बेचा जा रहा है और नियमों को ताक पर रखकर ऐसा किया जा रहा है। ऑनलाइन दवाइयों को बिना डॉक्टर की प्रिसक्रिप्शन के बेचा जा रहा है। यहां तक की लोगों के ई-मेल पर भी दवाइयों को घर पर भेजा जा रहा है।

हाईकोर्ट द्वारा किया गया यह आदेश पूरे देश में ऑनलाइन बिक रही दवाइयों पर लागू किया जाएगा। याचिकाकर्ता की तरफ से ऐसी दर्जनभर बड़ी वेबसाइट्स की जानकारी कोर्ट को दी गई जिन पर नियमों का उल्लंघन करके ऑनलाइन दवाई बेचने का आरोप है।

याचिकाकर्ता का कहना था कि ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक एक्ट 1940 और फार्मेसी एक्ट 1948 के तहत भी दवाइयों की बिक्री ऑनलाइन नहीं की जा सकती। याचिका में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि कुछ वेबसाइट्स प्रतिबंधित दवाओं की भी सप्लाई लोगों तक भेजती हैं।

ऑनलाइन दवाइयों की बिक्री को रोकने के लिए इससे पहले भी साउथ दिल्ली केमिस्ट एसोसिएशन हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटा चुका है। उस याचिका में भी ऑनलाइन बिक रही दवाइयों और बिना डॉक्टर की सलाह के लोगों द्वारा खरीदी जा रही दवाइयों को तुरंत रोकने की कोर्ट से गुहार लगाई गई थी।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

बिहार में फैला इंसेफेलाइटिस कहां है तेजश्वी यादव ?

     बिहार, मुजफ्फरपुर में इंसेफेलाइटिस बुखार से अभी तक कुल 117 बच्चों की मौत …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com