Breaking News

एक गर्भवती महिला की जान से ज्यादा कीमती थे बैंक अकाउंट और आधार कार्ड जैसे दस्तावेज़

डॉ. जिन्हें हम दूसरा भगवान समझते है अगर वही अपना फ़र्ज़ भूल कर मरीजों से मुह फेर ले तो क्या होगा. उत्तर प्रदेश के जौनपुर में ऐसा ही मामला प्रकाश में आया है, जहा एक गर्भवती महिला को सिर्फ इसलिए भारती नही करा क्यूंकि महिला के पास बैंक अकाउंट और आधार कार्ड नहीं था. महिला को प्रसव पीड़ा हो रही थी फिर अस्पताल के कर्मचारियों ने उससे भर्ती नहीं करा और महिला को अस्पताल के गेट पर ही जनम देना पड़ा.

 

 

ये भी पढ़े – दो लोंगो का बीच का झगड़ा, सुलझाना व्यापारी को पड़ा महंगा, बीचबचाव करने में गई जान

 

मामला यहां के शाहगंज थाना क्षेत्र स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का है। सोमवार सुबह महिला को लेबर पेन होने लगा, जिसके बाद उसका पति उसे लेकर मेडिकल सेंटर पहुंचा।

महिला के पति अजय कुमार ने बताया कि जब हम अस्पताल गए तो कर्मचारियों ने कुछ दस्तावेज मांगे जो मेरे पास नहीं थे। इसपर उन्होंने पत्नी को भर्ती करने से मना कर दिया। इसके बाद जैसे ही हम बाहर गए, उसने हॉस्पिटल के गेट पर ही बच्चे को जन्म दे दिया। करीब

वहीं, इस मामले में चिकित्सा अधीक्षक का कहना है, “डॉक्टरों ने महिला को जिला अस्पताल रेफर किया था। रेफर करते समय महिला ने कहा कि वह अपने परिचित के साथ वहां जाएगी। इस दौरान गेट पर पहुंचने पर उसे लेबर पेन महसूस हुआ। जिसके बाद उसे फौरन अंदर ले आया गया और उसने बच्चे को जन्म दिया। जच्चा-बच्चा दोनों ही अब सुरक्षित हैं।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*