Breaking News

औषधि प्रशासन विभाग का फर्जीवाड़ा

 

ऽ मानक को दरकिनार कर आर.एम. मेडिकल एजेंसी को दे दी गयी होलसेल एजेंसी
ऽ फार्मासिस्ट फाउंडेशन ने डी.आई. पर लगाया गम्भीर आरोप
फैजाबाद (आरएनएस) औषधि प्रशासन विभाग पूरी तरह फर्जीवाड़ा बन गया है। विभाग के ड्रग इस्पेक्टर की संस्तुति पर मानक को दरकिनार कर आरएम मेडिकल एजेंसी दर्शननगर को होलसेल ड्रग लाइसेंस का पंजीकरण प्रमाण पत्र बीती 29 जून को जारी कर दिया गया।
आर.एम. मेडिकल एजेंसी जिस भवन में स्थित है वहां पहले से ही अभिषेक मेडिकल एजेंसी नाम से फुटकर दवा का लाइसेंस जारी किया गया है। इसी भवन को दर्शाकर नई होलसेल एजेंसी का पंजीकरण किया गया जिसकी प्रोपराइटर मोनिका गुप्ता व नेहा पटेल हैं। गौरतलब है कि अभिषेक मेडिकल एजेंसी का पंजीकरण मोनिका गुप्ता के नाम से औषधि प्रशासन विभाग ने जारी कर रखा है।
जानकारों का कहना है कि होलसेल दवा एजेंसी के लिए कम से कम 800 स्क्वायर फिट का भवन जिसमें गोदाम भी सम्मलित है होना चाहिए। इसी भांति फुटकर दवा एजेंसी के लिए 110 स्क्वायर फिट के भवन की अनिवार्यता है। यही नहीं दवा एजेंसी में फ्रिज का होना अनिवार्य है। दूसरी ओर एक ही भवन में संचालित फुटकर व होलसेल एजेंसियों के पास फ्रिज की सुविधा तक नहीं है। व्यवस्था के अनुसार ड्रग इस्पेक्टर पीसी रस्तोगी की संस्तुति पर ड्रग लाइसेंस अथारिटी प्रभात तिवारी द्वारा निर्गत किया गया है। सूत्रों का यह भी कहना है कि मोनिका गुप्ता के पति ड्रग इस्पेक्टर के खासमखास हैं तथा दवा विक्रेताओं व लाइसेंस नवीनीकरण तथा नये लाइसेंस निर्गत करने में इन्हीं के माध्यम से लेनदेन किया जाता है इसलिए आरएम मेडिकल एजेंसी का लाइसेंस निर्गत करते समय ड्रग इस्पेक्टर व ड्रग लाइसेंस अथारिटी ने मौका मुआयना भी करने की जहमत नहीं उठाया। इस सारे प्रकरण में औषधि लिपित बृजेन्द्र कुमार मिश्रा की बड़ी भूमिका है।
दूसरी ओर विभाग के लाइसेंस फर्जीवाड़ा व घोटालों की बावत उ.प्र. फार्मासिस्ट फाउंडेशन आन्दोलित हो उठा है। बीते दिनों फाउंडेशन के प्रदेश अध्यक्ष शशिभूषण सिंह के नेतृत्व में जिलाधिकारी, मण्डलायुक्त और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को चार सूत्रीय मांगपत्र सौंपा गया तथा प्रकरण की निष्पक्ष जांच करा फर्जीवाड़ा से सम्बन्धित दोषियों के विरूद्ध विधिक कार्यवाही किये जाने की मांग की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*