विहान शर्मा

फ्लाइट में अकेले सफर कर दिल्‍ली से बेंगलुरु पहुंचा 5 साल का विहान, जानिए पूरा मामला

नई दिल्‍ली। देश में कोरोना संकट के चलते दो महीने से जारी लॉकडाउन के कारण हर कोई जहां था वहां फंस गया था, अब कुछ हद तक ट्रेन और प्लेन सर्विस शुरू हुई है तो कुछ राहत है। इसी राहत ने एक पांच साल के बच्चे को अपनी मां से मिलवाया है, जो तीन महीने से दिल्ली में फंसा हुआ था।

यह भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट का आदेश, 10 दिन बाद प्‍लेन में नहीं होगी मिडिल सीट की बुकिंग

आज जब फ्लाइट ने दिल्ली से बेंगलुरु के लिए पहली उड़ान भरी उड़ी तो एयरपोर्ट का नजारा ही कुछ और था। फ्लाइट में सभी यात्रियों के साथ एक पांच साल का बच्चा भी सफर कर रहा था। सबसे खास बात ये थी कि यह बच्चा प्‍लेन में अकेले ही सफर कर रहा था। विहान शर्मा नाम का ये बच्चा तीन महीने पहले अपने माता-पिता के साथ दिल्ली अपने दादा-दादी से मिलने आया था। कुछ दिन बाद विहान के माता-पिता उसे दादा-दादी के पास छोड़कर वापस आ गए। इसके कुछ ही दिन बाद देश में लॉकडाउन हो गया, अब जब फ्लाइट फिर शुरू हुई तो वो घर लौटा है।

बेटे को रिसीव करने बेंगलुरु एयरपोर्ट पहुंची मां

विहान की मां मंजरी शर्मा ने बताया कि पिछले तीन महीने से विहान अपने दादा दादी के पास ही था। सोमवार को जैसे ही दिल्ली से फ्लाइट शुरू करने की बात कही गई तो विहान की मां ने तुरंत उसका टिकट बुक कराया। इसके बाद 5 साल की उम्र में विहान ने दिल्ली से बेंगलुरु तक का सफर अकेले ही तय किया। विहान को लेने के लिए मंजरी एयरपोर्ट पहुंचीं। विहान को फ्लाइट स्टाफ ने उनकी मां तक सुरक्षित पहुंचाया। बताया जाता है कि ​विहान को देखते ही मंजरी की आंखों में आंसू आ गए। उन्होंने कहा कि मेरा पांच साल का बेटा तीन महीने से दिल्ली में था, जो अब फ्लाइट से अकेला आया है।

यूं तो इतने छोटे बच्चे का विमान में अकेले सफर करना मुमकिन नहीं है, लेकिन विहान को स्पेशल कैटेगरी में शामिल लाया गया, ताकि वह अपने घर से लौट सके।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

सावधान! दिमाग को भारी नुकसान पहुंचाता है खतरनाक कोरोना वायरस  

वर्ल्‍ड डेस्‍क। वैश्‍विक महामारी कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में हाहाकार मचा रखा और इस …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com