Breaking News

पाकिस्तान से लौटी गीता के स्वयंवर की तैयारियां लगभग हुई पूरी, शादी के लिए है कुछ खास शर्ते

गीता ने अपने जीवनसाथी के लिए कुछ सपने संजोए हैं। जिसमें वह उसके माता-पिता को ढूंढने में उसकी मदद करेंगे। वहीं उसे साइन लैंग्वेज भी आना भी जरूरी है। पाकिस्तान से आई गीता जल्द ही 7 वचन और सात फेरों में बनने जा रही है। इसके लिए गीता के स्वयंवर की तैयारी की गई है।

ये भी पढ़े – मुस्लिम लड़के ने गीता पर निबंध लिख जीती प्रतियोगिता,दो मुस्लिम लड़किया भी रही शीर्ष पर

दरअसल, सोशल साइट्स पर गीता के स्वयंवर को लेकर कुछ दिनों पहले मूक बधिर संस्थान से जुड़े ज्ञानेंद्र पुरोहित और उनकी पत्नी मोनिका पुरोहित ने एक विज्ञप्ति प्रसारित की थी। जिसको लेकर सैकड़ों आवेदन गीता से शादी के लिए आए थे। जिसमें से 27 आवेदनों का शुरुआती दौर में चयन किया गया।

उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों से ए प्रस्ताव

इन 27 आवेदनों को विदेश मंत्रालय द्वारा इंदौर कलेक्टर को भेजे गए और इंदौर कलेक्टर की निगरानी में गोपनीय रूप से सीता को तीन लड़कों के रिश्ते दिखाए गए। जिनमें से 14 लड़कों का चुनाव किया गया। वर का चुनाव किए जाने वाले लड़कों में सात मुख बधिर हैं। दो विकलांग हैं और 6 सामान्य वर्ग से ताल्लुक रखते हैं। चयनित होने वाले युवक मध्यप्रदेश बिहार उत्तरप्रदेश दक्षिण भारत सहित एक अन्य राज्य से ताल्लुक रखते हैं।

इन बातों का पता लगाएगी पता भारत सरकार पता 

गीता को पसंद करने वाले युवकों में एक युवक व्यापार जगत से जुड़ा है, जिसका सालाना पैकेज लाखों रुपये बताया जा रहा है। वहीं इसके अलावा अलग-अलग पेशों से जुड़े युवकों ने भी आवेदन किया है। आवेदन करने वाले युवकों की तनख्वाह और हैसियत का भारत सरकार पता लगाएगी। अब भारत सरकार के हाथ में है गीता के माता-पिता होने का फर्ज अदा करें।
कुंडली के बदले साइन लैंग्वेज को दी प्राथमिकता
जैसे ही गीता लड़के का चयन करती है, वैसे ही भारत सरकार के अधिकारी उस लड़के की तफ्तीश में जुट जायेंगे, ताकि गीता को उसके वर के रूप में एक सुरक्षित हाथ मिल सके। वहीं गीता की शादी को लेकर कुंडली को प्राथमिकता नहीं दी गई है, बल्कि साइन लैंग्वेज उसके वर को आना जरूरी है। 7 और 8 जून को गीता दो चरण में अपने वर का चुनाव करेगी

14 लड़कों में से किसकी दुल्हनिया बनेगी गीता

इस दौरान इंदौर के परदेसी पुरा इलाके में गीता के वर चुनाव के लिए अलग से व्यवस्था की गई है। जहां दो चरणों में लड़कों को गीता को दिखाया जाएगा। अब देखना दिलचस्प होगा की इन 14 लड़कों में से गीता किसे अपना जीवन साथी चुनती है। गीता को वर से ज्यादा इंतजार है माता-पिता का, इस बार नासिक के एक परिवार ने दावा किया है कि, गीता उनकी बेटी है। वहीं मूक बधिर संस्थान ने नासिक के दंपत्ति पर संभावना जताई है।

गीता को मिल सकते हैं माता-पिता

इस बार नासिक के एक परिवार ने गीता के माता-पिता होने का दावा किया है। जो तस्वीर गीता की मां की पेश की गई है। वह हुबहू गीता की तरह दिखाई दे रही है। गीता के गुम होने का समय और कलेक्टर में पेश किए गए गीता के जन्म से जुड़े और गुम होने से जुड़े दस्तावेज काफी कुछ संभावनाओं पर असर डालते दिखाई दे रहे हैं। साथ ही गीता बचपन में उसके परिजन गुड्डी के नाम से बुलाया करते थे। यही बात पाकिस्तान पहुंचने पर ईदी फाउंडेशन ने भी कंफर्म की है कि, गीता का नाम गुड्डी हो सकता है।

क्या पति से पहले मिलेगा मायका?

वहीं इस पूरे मामले में पिता होने का दावा करने वाले शख्स का जल्द ही डीएनए टेस्ट करवाया जाएगा। हालांकि गीता की मां काफी समय से उसके पिता से अलग रह रही है। यही वह कारण है कि, इसके असल माता-पिता ने गीता के माता-पिता होने का दावा करने में इतना वक्त लगाया हो। अब देखना दिलचस्प होगा कि, गीता को पहले उसके माता-पिता मिलते हैं या उसका पति, लेकिन दोनों ही सूरतों में गीता की पहली प्राथमिकता तो उसके माता-पिता ही रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*