बीमारी

जरुरत से ज्यादा ली नींद तो, समय से पहले हो सकती है मौत

ऐसा तो सब लोग जानते है की अगर हम नीदं पूरी ना ले तो हमें बीमारियां हो सकती है लेकिन क्या कभी किसी ने यह सोचा की ज्यादा सोने से भी कई बीमारियां हो सकती हैं. ठंड का मौसम चल रहा हैं और मौसम अक्सर अपनी करवट बदल रही है , ऐसे में अधिकतर लोग यह सोचते हैं की उन्हें रजाई से निकलना न पड़े. उन्हें लगता है की अगर वह रजाई में रहेंगे और घर में कैद रहेंगे तो वह ठण्ड से बचेंगे और अधिक समय तक सोने से वो खुद ठंड लगने से बचा सकेंगे। लेकिन हाल ही में हुई एक स्टडी ने इस बात को गलत साबित किया है.

यूरोपियन हार्ट जर्नल में प्रकाशित स्टडी की रिपोर्ट के मुताबिक, 6 या 8 घंटे से ज्यादा समय तक सोने से दिल की बीमारी होने के साथ-साथ जल्दी मौत होने का खतरा भी बढ़ता है. दरअसल, नींद व्यक्ति की सेहत को गंभीर रूप से प्रभावित करती है. कई स्टडी की रिपोर्ट में भी ये बात साबित हो चुकी है कि जरूरत से ज्यादा सोने से दिल की बीमारी के साथ समय से पहले मौत होने का खतरा भी बढ़ जाता है.

स्टडी के दौरान शोधकर्ताओं की टीम ने 21 अलग-अलग आय के देशों के 1,16,632 लोगों के स्लीप डेटा की जांच की. इनमें 4 अधिक आय वाले देश जैसे- कनाडा, स्वीडन, सऊदी अरब औरयूनाइटेड अरब इमायरेट्स, 12 मध्य आय के देश, जिनमें, अर्जेंटीना, ब्राजील, चिली, चीन, कोलंबिया, ईरान, मलेशिया, पैलेस्तीन, फिलीपींस, पोलैंड, साउथ अफ्रीका और तुर्की शामिल हैं. इसके अलावा स्टडी में 5 कम आय वाले देश- बांग्लादेश, भारत, पाकिस्तान, तंजानिया और जिम्बाब्वे के लोगों को भी शामिल किया गया.

स्टडी में शामिल सभी देशों के लोगों से उनकी आर्थिक स्थिति, लाइफस्टाइल, सोने का समय, स्मोकिंग, अल्कोहल, फिजिकल एक्टिविटी, डाइट और बीमारी से संबंधी सवाल पूछे.

नतीजों में सामने आया कि जो लोग रोजाना 8 घंटे से ज्यादा की नींद लेते हैं, उनमें हार्ट अटैक और स्ट्रोक होने का खतरा अधिक होता है. साथ ही ऐसे लोगों में जल्दी मौत होने का खतरा भी 41 फीसदी तक बढ़ जाता है. स्टडी की रिपोर्ट के मुताबिक, व्यक्ति को सिर्फ 6 से 8 घंटे तक ही सोना चाहिए.

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

क्या मौसम बदलने के दौरान आपको भी होती है एलर्जी? जानें क्या करें

अक्सर देखा गया है कि मौसम बदलने के दौरान कई लोगों को एलर्जी हो जाती …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com