मानसिक तनाव के कारण सिरदर्द की समस्या है तो करें इस फूल का सेवन

लाइफस्टाइल  शंखपुष्पी के बारे में बहुत कम ही लोग जानते होंगे। दरअसल, यह आयुर्वेद में बहुत महत्वपूर्ण जड़ी-बूटी है। इसके फूल से लेकर पत्ते और जड़ें सभी का इस्तेमाल औषधीय प्रयोजनों के लिए किया जाता है। इसका नाम शंखपुष्पी इसलिए पड़ा है, क्योंकि इसका फूल शंख के आकार का होता है। वैसे तो यह तीन रंग के पौधों में आता है- लाल, नीला और सफेद, लेकिन सफेद फूलों वाले शंखपुष्पी के पौधे को सबसे अच्छा माना जाता है। इसे स्मृति में सुधार और एकाग्रता बढ़ाने में मददगार माना जाता है

शंखपुष्पी को भूख को बढ़ाने में मददगार माना जाता है। दरअसल, इसमें भूख और पाचन उत्तेजक के गुण होते हैं, जिससे भूख में सुधार करने में मदद मिलती है। अगर आप भूख न लगने की समस्या से परेशान हैं तो आपको शंखपुष्पी का सेवन जरूर करना चाहिए।

जो लोग मानसिक कमजोरी, मानसिक कार्यभार या मानसिक तनाव के कारण सिरदर्द की समस्या से पीड़ित हैं, उनके लिए शंखपुष्पी सिरप अधिक लाभकारी माना जाता है। यह मस्तिष्क को शक्ति प्रदान करती है और परेशान नसों को शांत करती है, जिससे सिरदर्द की समस्या में राहत मिलती है।

मधुमेह रोगियों के लिए शंखपुष्पी किसी वरदान से कम नहीं है। अगर आप मधुमेह को नियत्रंण में रखना चाहते हैं तो आपको नियमित रूप से शंखपुष्पी का सेवन जरूर करना चाहिए। आप 2-4 ग्राम शंखपुष्पी के चूर्ण को मक्खन या पानी के साथ सुबह शाम पीएं। इसके नियमित सेवन से मधुमेह नियत्रिंत हो जाता है।

शंखपुष्पी को बालों के लिए भी लाभदायक माना जाता है। इसके इस्तेमाल से बालों में चमक आती है और बाल बढ़ने भी लगते हैं। बालों को बढ़ाने के लिए आप जड़ सहित पूरे पौधे को पहले पीस लें और सिर पर उसका लेप लगाएं। इससे आपको फायदा मिलेगा। इसके अलावा यह भी कहा जाता है कि शंखपुष्पी के रस को नाक में डालने से बाल जल्दी सफेद नहीं होते हैं।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

पालक को ऐसे इस्तेमाल कर बढ़ाएं बालों की ग्रोथ

हेयर ग्रोथ (Hair Growth) एक बेहद स्‍लो प्रोसेस है. दो इंच बाल बढ़ाने के लिए …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com