कासगंज हिंसा पर बरेली के DM के पोस्ट ने बढ़ा दिया विवाद …

कासगंज हिंसा को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार पर दबाव लगातार बढ़ता ही जा रहा है, फेसबुक पर इस हिंसा को लेकर अब इस राज्य के एक जिलाधिकारी के पोस्ट ने विवाद बढ़ा दिया है.बरेली के जिलाधिकारी कैप्टन राघवेंद्र विक्रम सिंह ने कासगंज घटना पर फेसबुक पर एक पोस्ट किया. रविवार की शाम 7:55 बजे 39 शब्दों के इस छोटे से पोस्ट के बाद विवाद खड़ा हो गया.

ये भी पढ़े – कासगंज की घटना पर बोले रामनाईक, प्रदेश के लिए कलंक है कासगंज में हुई घटना

 

उन्होंने अपने पोस्ट में लिखा था, “अजब रिवाज बन गया है. मुस्लिम मुहल्लों में जबर्दस्ती जुलूस ले जाओ और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाओ. क्यों भाई वे पाकिस्तानी हैं क्या? यही यहां बरेली में खैलम में हुआ था. फिर पथराव हुआ, मुकदमे लिखे गए…”

दिलचस्प यह है कि कैप्टन राघवेंद्र पूर्व सैन्य अफसर रहे हैं और इसी साल 30 अप्रैल को सेवानिवृत्त होने जा रहे हैं. डीएम ने आर विक्रम सिंह नाम से बने फेसबुक पेज पर यह पोस्ट गणतंत्र दिवस के 2 दिन बाद कासगंज में फैले तनाव के बाद किया था.

 

 

दूसरी ओर, यूपी सरकार के प्रवक्ता और ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा कि प्रशासनिक अधिकारियों को माहौल ठीक करने में अपनी ताकत लगानी चाहिए न कि उसे बिगाड़ने में. उनका काम व्यवस्था ठीक करना है.

 दूसरी तरफ, उनके इस पोस्ट पर 3 घंटे तक लोगों ने जमकर प्रतिक्रिया दी, जिसके बाद उन्होंने इस पोस्ट को एडिट कर दिया. हालांकि चर्चा बढ़ने के बाद उन्होंने इसे एडिट करते हुए उसकी जगह 26 जनवरी को ऐतिहासिकता से जुड़ा कंटेंट डाल दिया. हालांकि, इससे एडिट हिस्ट्री नहीं मिटी. हालांकि विवाद बढ़ता देख उन्होंने इसे अपना निजी विचार करार दिया.

विवाद के बीच उन्होंने 10 घंटे पहले एक और पोस्ट किया है जिसमें उन्होंने लिखा, “कोई गलियों में तुम्हें खोज रहा है शायद, जाओ सो जाओ जमाना बड़ा जज्बाती हो गया है.” उनके इस पोस्ट पर लगातार प्रतिक्रिया आ रही है.

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

टाटा मोटर्स

टाटा मोटर्स की इस कार ने बनाया रिकॉर्ड, दंग रह गए अन्य कार निर्माता

टाटा मोटर्स की इस कार ने बनाया रिकॉर्ड, दंग रह गए अन्य कार निर्माता… दुनिया …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com