Breaking News

मनपसंद विभाग न मिलने से नितिन पटेल नाराज,हार्दिक ने भी दे दिया ऑफर

गुजरात में बीजेपी की सरकार बने अभी दस दिन भी नहीं हुए और डिप्टी सीएम नितिन पटेल की नाराजगी की खबर सामने आ रही है. बताया जा रहा है कि नितिन पटेल अपने पुराने मंत्रालय नहीं मिलने से नाराज चल रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक नितिन पटेल ने इसे लेकर पीएम नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को चिट्ठी भी लिखी.

ये भी पढ़े ~गुजरात में ऐतिहासिक जीत के बाद,भाजपा ने शपथ ग्रहण को भी बनाया ऐतिहासिक…जाने कैसे

इस चिट्ठी में पटेल ने लिखा है कि ‘इस बार के सरकार गठन में उनका पोर्टफोलियो कम कर दिया गया है,यह उनका अपमान है, उन्हें दो से तीन दिन के अंदर वित्त और शहरी विकास समेत अपने पूर्ववर्ती सभी मंत्रालय वापस मिलने चाहिए वरना उनका इस्तीफा स्वीकार किया जाए.

हार्दिक ने दिया ऑफर

गुजरात में मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल के बीच अनबन की खबरों के बाद पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने नितिन पटेल को अपने साथ शामिल होने का न्योता दिया है. हार्दिक ने कहा है कि अगर बीजेपी में नितिन पटेल का सम्मान नहीं हो रहा है, तो वे कांग्रेस ज्वाइन कर सकते हैं.

सीएम लगातार नितिन पटेल को मनाने में लगे है

आपको बता दें कि पिछली गुजरात सरकार में नितिन पटेल के पास वित्त, शहरी विकास, उद्योग और राजस्व मंत्रालय था लेकिन इस बार वित्त मंत्रालय सौरभ पटेल को दे दिया गया जिससे नाराज उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने अब तक अपना कार्यभार नहीं संभाला है. पटेल समझौता करने के मूड में नहीं क्योंकि गुरुवार को हुई कैबिनेट की बैठक में भी वह देर पहुंचे थे. शाम 5 बजे शुरू होने वाली बैठक में रात नौ बजे आए.

मुख्यमंत्री ने अपने पास रखे सभी अहम विभाग

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने अपने पास गृह, बंदरगाह एवं खदान, शहरी विकास, पेट्रोलियम, जलवायु परिवर्तन, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और सूचना एवं प्रसारण और सामान्य प्रशासन सहित कई विभाग रखे हैं. वहीं उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल को सड़क एवं निर्माण, स्वास्थ्य, मेडिकल शिक्षा, नर्मदा, कल्पसार एवं कैपिटल परियोजना जैसे विभागों की जिम्मेदारी सौंपी गई है.

कई विधायक चल रहे नाराज

खबरों की मानें तो गुजरात में विधायकों का एक धड़ा भी चल रहा है नाराज चल रहा है, बताया जा रहा है कि वडोदरा के विधायक राजेन्द्र त्रिवेदी भी पार्टी नेतृत्व से नाराज हैं इस वजह है वडोदरा से किसी भी विधायक का कैबिनेट में शामिल नहीं किया जाना. इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक भड़के राजेन्द्र त्रिवेदी ने 10 विधायकों के साथ पार्टी छोड़ने की धमकी दी है. वहीं साउथ गुजरात के भाजपा विधायक भी सरकार में इस रीजन से मंत्री न बनाए जाने से नाराज चल रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*