यूएन के झटके के बाद पाक को जर्मनी और मालदीव से मिली निराशा

 

 

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पाकिस्तान लगातार सभी देशों से मदद मांग रहा है और उससे हार बार नाकामियों का सामना करना पढ़ रहा है।  इस मुद्दे पर अब इमरान खान ने जर्मनी की चांसलर से फोन पर बातचीत की। पाकिस्तान के विदेश दफ्तर के मुताबिक, जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल से बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत की ओर से जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म करने को क्षेत्र में शांति एवं सुरक्षा पर गंभीर प्रभाव पड़ने की बात कही।

इमरान खान ने गुज़ारिश की कि शांति एवं सुरक्षा के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय की तत्काल कार्रवाई की जिम्मेदारी  है। इस पर एंजेला मर्केल ने जवाब दिया कि जर्मनी कश्मीर की हालात पर करीब से नजर बनाए हुए है। मर्केल ने तनाव कम करने तथा मुद्दे को शांतिपूर्ण तरीके से हल करने की अहमियत को भी बताया।

 

इसके अतिरिक्त पाकिस्तान ने मालदीव से भी कश्मीर मुद्दे को लेकर बात की है।  पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने अपने समकक्ष अब्दुल्ला शाहिद से इस बारे में बात की।  कुरैशी ने मालदीव से क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए विवादों के समाधान के लिए रचनात्मक भूमिका निभाने की अपील की थी।

इस पर मालदीव ने पाकिस्तान को मुँह तोड़ जवाब दिया।  मालदीव के विदेश मंत्री शाहिद ने कुरैशी से कहा कि मालदीव मानता है कि भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 के संबंध में भारत का फैसला उसका अंदरूनी मसला है। शाहिद ने टेलीफोन के लिए पाकिस्तान का शुक्रिया अदा किया और कहा कि पाकिस्तान तथा भारत दोनों ही मालदीव के करीबी दोस्त हैं और द्विपक्षीय साझेदार हैं।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

गुजरात, पश्चिम बंगाल और UK जैसे राज्यों ने नए कानून को लागू नहीं करने का किया फैसला

देशभर में नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू होने के बाद से लगातार काटे जा रहे भारी-भरकम …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com