संकेतात्मक तस्वीर

CBSE बोर्ड परीक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट पहुंचे अभिभावक, स्टे लगाने की मांग

नई दिल्‍ली। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने हाल ही में निर्णय लिया था कि बोर्ड अपने बची हुई परीक्षाएं एक से 15 जुलाई को कराएगा। मगर, कुछ पेरेंट्स ने सीबीएसई बोर्ड के इस फैसले के खिलाफ उच्‍चतम न्‍यायालय में याचिका दायर करके परीक्षा पर स्टे लगाने की मांग की है।

अपनी याचिका में अभिभावकों ने खासतौर पर कोरोना वायरस के संक्रमण से बढ़ते खतरे का जिक्र किया है। उनका तर्क है कि एम्स के डाटा के मुताबिक, कोरोना वायरस आने वाले समय में भारत में अपने चरम पर होगा। ऐसे में परीक्षाएं कराना बच्चों की सेहत के लिए चुनौतीपूर्ण हो सकता है, इसलिए पेरेंट्स ने मांग की है कि इन परीक्षाओं को रद्द कर दिया जाना चाहिए।

इंटरनल एसेसमेंट के जरिए रिजल्ट घोषित करने की मांग

पेरेंट्स का कहना है कि आज भारत में संक्रमितों की संख्या तीन लाख के करीब पहुंच चुकी है और ऐसे में परीक्षाएं कराना बेहद जोखिम भरा कदम साबित हो सकता है। अभिभावक अब इंटरनल एसेसमेंट के जरिए रिजल्ट का ऐलान करने की मांग कर रहे हैं।

आपको बता दें कि सीबीएसई बोर्ड ने सभी सुरक्षा मानकों का पालन करते हुए एक से 15 जुलाई तक नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में 10वीं बोर्ड के बचे हुए एग्जाम और पूरे भारत में 12वीं के बचे हुए एग्जाम कराने का फैसला लिया था। बोर्ड ने ये भी स्पष्ट किया था कि परीक्षाएं 12वीं में सिर्फ 29 मेन विषयों की होंगी।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

कानपुर मुठभेड़: मिल गया विकास को दबिश की मुखबिरी करने वाला ‘विभीषण’, आप भी जानिए

कानपुर देहात। चौबेपुर के बिकरू गांव में पुलिस और बदमाशों की मुठभेड़ के बाद कई …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com