Breaking News

PM मोदी cm योगी ने किया 2019 का पहले विकास मिशन का उद्घाटन

राजधानी लखनऊ में बुधवार से यूपी इन्वेस्टर्स समिट की शुरुआत हुई. इस समिट में 9 देशों के प्रतिनिधी शामिल हो रहे हैं जबकि 5000 उद्योगपति भी. पीएम मोदी ने इसका उद्घाटन किया जबकि योगी आदित्यनाथ सरकार का ये सबसे बड़ा आयोजन माना जा रहा है. 2019 के चुनाव के मिशन पर जुटने से पहले बीजेपी के लिए ये एक बड़ा आयोजन माना जा रहा है.

 

ये भी पढ़े ~प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी खेलंगे क्रिकेट, दो आई आईटीयन युवकों द्वारा तैयार किया हुआ स्टार्टअप भरेगा लखनऊ में उड़ान

 

पीएम मोदी ने यूपी को देश के विकास का इंजन बताया था. अब ये समिट बीजेपी के मिशन 2019 का इंजन भी बन सकती है. योगी आदित्यनाथ ने आजतक से बातचीत में कहा कि प्रदेश की कानून-व्यवस्था हमने सुधारी है अब विकास कोई रोक नहीं सकता.

 

 

30 सत्रों में होने वाले इस सम्मेलन में देश के तमाम उद्योगपतियों के अलावा जापान, नीदरलैंड, मॉरीशस समेत सात देश पार्टनर के रूप में हिस्सा ले रहे हैं. दो दिन के इस इन्वेस्टर्स समिट में रोजगार, कपड़ा, डिफेंस, मैन्युफैक्चरिंग, एमएसएमआई जैसे 30 सेशन रखे गए हैं.  इस समिट में देश के 5000 शीर्ष उद्योगपति इस इन्वेस्टर्स समिट में शामिल हो रहे हैं. इनमें प्रमुख रूप से मुकेश अंबानी, गौतम अडानी,  कुमार मंगलम बिड़ला, आनंद महिंद्रा, पकंज पटेल, शौभना कामिनेनी, रशेश शाह, नटराजन .

 

 

 ये भी पढ़े ~इस साल होली पर बनाएं कुछ अलग तरह के हेल्दी गुजिया

 

समिट से पहले ही 900 MoU पर हस्ताक्षर हो चुके थे. इस समिट में हर एमओयू से सूबे में खुलेगी तरक्की की राह. इससे 50 युवाओं को रोजगार मिलने की संभावनाएं मानी जा रही है. योगी सरकार लालफीताशाही, अड़ियल अफसरशाही, सिस्टम में पर्दे के पीछे की सौदेबाजी, सिंगल विंडो के नाम पर खानपूर्ति, खराब कानून व्यवस्था और बिजली का बुरे हाल के अवरोध को दूर करके निवेश की राह खोलने की कोशिश कर रही है

 

इन्वेस्टर्स समिट का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया. करीब 5000 उद्योगपति शामिल हो रहे हैं. इन्वेस्टर्स समिट में थीम पार्क स्कूल के लिए एसेल ग्रुप से सरकार को निवेश की उम्मीद हैइन्वेस्टर्स समिट के जरिए पिछले पांच साल में 56 हजार करोड़ का निवेश हुआ है. 35 लाख से ज्यादा लोगों को रोजगार मिला.

यूपी हस्तकला के निर्यात में 44 फीसदी निर्यात में है, तो वहीं लेदर प्रोडक्ट में  26 फीसदी, कालीन में 39 फीसदी और 90 फीसदी कार्पेट और उससे जुड़े हुए उत्पादों निर्यात करता है.

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*