राहुल गाँधी बने कांग्रेस अध्यक्ष,पीएम मोदी ने की अच्छे कार्यकाल की कामना

गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए दूसरे चरण की वोटिंग से ठीक पहले कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए खुशखबरी की खबर है. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पार्टी अध्यक्ष निर्वाचित हो गए हैं. कांग्रेस नेता एम रामचंद्रन ने दोपहर में इसका औपचारिक रूप से ऐलान कर दिया. बता दें कि आज ही नामांकन वापस लेने का आखिरी दिन था, सिर्फ राहुल ने ही नामांकन दाखिल किया था. राहुल के अध्यक्ष निर्वाचित होते ही कांग्रेस कार्यकर्ता खुशी में झूम उठे. राहुल की ताजपोशी पर दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय के बाहर पार्टी कार्यकर्ताओं ने पटाखे फोड़े. कहीं ढोल-नगाड़े बजे तो कहीं राहुल के समर्थन में जोरदार नारेबाजी हुई.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बनने की बधाई दी.

 

ये भी पढ़े ~स्मृति का राहुल पर वार, कहा-‘बेचारे’ को पार्टी अध्यक्ष तो बनने दो

दोपहर में कांग्रेस के सेंट्रल इलेक्शन अथॉरिटी के चेयरमैन एम रामचंद्रन, सदस्य मधुसूदन मिस्त्री और भुवनेश्वर कालिता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में राहुल को निर्विरोध पार्टी का अध्यक्ष चुने जाने का ऐलान किया. रामचंद्रन ने बताया कि नामांकन के दौरान राहुल गांधी की ओर से दाखिल किए गए सभी 89 सेट सही पाए गए. राहुल ने 4 दिसंबर को अध्यक्ष पद के लिए नामांकन किया था. राहुल गांधी 17 दिसंबर को सभी कांग्रेस नेताओं और कांग्रेस सांसदों के लिए डिनर का आयोजन करेंगे. साफ है कि अध्यक्ष पद संभालने से पहले राहुल सभी नेताओं से खुल कर चर्चा करना चाहते हैं.

नबी ने भाजपा को चेताते हुए कहा राहुल ने अपना रूप गुजरात में दिखा दिया है

राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में औपचारिक ऐलान पर कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि राहुल गांधी ने गुजरात चुनाव में अपना मेटल दिखा दिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ-साथ 80 मंत्री भी पिछले एक महीने से गुजरात में डेरा डाले हुए हैं. इसके बाद भी वे अकेले राहुल गांधी का सामना नहीं कर पा रहे हैं.

इससे पहले खबर थी कि राहुल गांधी 14 दिसंबर को आधिकारिक रूप से अध्यक्ष पद संभालेंगे. लेकिन इस पर फैसला नहीं हो सका. क्योंकि 14 तारीख को ही वोटिंग है इसलिए कुछ नेताओं ने इस दिन ताजपोशी का विरोध किया.

इसके अलावा कुछ नेताओं का तर्क था कि चूंकि 16 तारीख से खरमास लग रहा है और हिंदू परंपरा में इस समय शुभ काम नहीं किए जाते हैं. इसलिए पर संशय बरकरार था.

सोनिया के 19 साल पद पर रहने के बाद  कांग्रेस को मिला नया अध्यक्ष

आपको बता दें कि यह लगभग दो दशक बाद है, जब कांग्रेस पार्टी को उसका नया पार्टी अध्यक्ष बनेगा. मौजूदा अध्यक्ष सोनिया गांधी 1998 से पार्टी की कमान संभाल रही हैं. नामांकन के दौरान राहुल के साथ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत कई कांग्रेसी दिग्गज शामिल हुए थे. हालांकि, सोनिया गांधी-प्रियंका गांधी शामिल नहीं हुई थीं. राहुल ने नामांकन से पहले सोनिया से उनके घर जा मुलाकात की थी.

शहजाद ने उठाए थे सवाल, मोदी ने की तारीफ

आपको बता दें कि अध्यक्ष पद चुनाव से ठीक पहले राहुल गांधी के रिश्तेदार शहजाद पूनावाला ने चुनाव प्रक्रिया पर सवाल उठाए थे. उन्होंने कहा था कि यह इलेक्शन नहीं सिलेक्शन है. जिसके बाद उनके ही भाई तहसीन पूनावाला ने उनसे संबंध तोड़ दिए थे, कांग्रेस नेताओं ने भी इस बयान को ज्यादा तवज्जों ना देने की बात कही थी. हालांकि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात में एक रैली के दौरान शहजाद की तारीफ की थी.

Check Also

देश

घुसपैठियों को लेकर सरकार का अंतिम फैसला, खत्म कर देंगे देश से नाम-निशान

भारतीय जनता पार्टी की केन्द्र व राज्य सरकार अवैध घुसपैठियों को देश से बाहर करने …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com