Breaking News
google

google को बताइए एंड्रायड की खामिया , और जीते 1,000 डॉलर का इनाम

अब हैकर्स और सिक्योरिटी रिसर्चर्स के लिए google ने एक  मौका देकर बग बाउंटी प्रोग्राम की शुरुआत की है और साथ ही अपने यूज़र्स को एंड्रॉयड में कोई खामिया ढूंड कर गूगल को बताने  पर इनाम भी रखा है. ये प्रोग्राम एंड्रायड को ज़्यादा से ज़्यादा सिक्योर करने के लिए किया गया है. दरअसल गूगल ने ऐसा अपने कुछ मुख्य एंड्रॉयड ऐप्स के लिए किया है.

गूगल ने इस बग बाउंटी प्रोग्राम का नाम गूगल प्ले सिक्योरिटी रिवॉर्ड रखा है. इसके तहत हैकर्स और सिक्योरिटी रिसर्चर्स एंड्रॉयड ऐप्स के डेवेलेपर्स के साथ बग ढूंढने और उसे ठीक करने का काम करेंगे. इसके लिए गूगल ने 1,000 डॉलर की इनामी राशी तय की है.

हैकर्स गूगल एप्स में खामिया निकाल गूगल को करेंगे रिपोर्ट–

गौरतलब है कि गूगल ने इसके लिए बग बाउंटी प्लेटफॉर्म HackerOne के साथ पार्टर्नशिप की है डो इसे मैनेज करेगा. आपको बता दें कि HackerOne एक प्लेटफॉर्म है जो बिजनेस और साइबर सिक्योरिटी रिसर्चर्स के बीच की कड़ी का काम करता है और यह इस तरह की सबसे बड़ा साइबर सिक्योरिटी प्लेटफॉर्म है. इस प्लेटफॉर्म के तहत हैकर्स गूगल को ऐप में मिली खामियों के बारे में रिपोर्ट कर सकेंगे जिसे उनके साथ ही मिलकर फिक्स किया जाएगा.

भारतीय हैकर्स ने फेसबुक से जीते सबसे ज्यदा रिवार्ड–

इस बग बाउंटी के तहत जो हैकर या सिक्योरिटी रिसर्चर रिपोर्ट करना चाहते हैं वो सीधे ऐप डेवेलपर को रिपोर्ट कर सकते हैं. एक बार खामी ठीक हो गई इसके बाद हैकर्स को बग रिपोर्ट हैकर वन के साथ शेयर करनी होगी. इन सब प्रक्रिया के बाद गूगल पैसा देगा. पैसे देने से पहले कंपनी ऐप की खामी की गंभीरता को देखेगी. फिलहाल इसके बारे में डीटेल से कंपनी ने नहीं बताया है. हैकर वन के मुताबिक सभी खामियों को डायरेक्ट ऐप डेवलपर को रिपोर्ट करना होगा.

बग बाउंटी के बारे में जानकारी नहीं है तो आपको बता दें कि दुनिय भर की बड़ी टेक कंपनियां जैसे फेसबुक और गूगल बग बाउंटी प्रोग्राम चलाती हैं. इसके तहत कुछ खामियों के बारे में पता लगाकर कंपनी को बताया जाता है जिसके बाद कंपनी रिवॉर्ड देती है. फेसबुक बग बाउंटी प्रोग्राम में भारतीय हैकर्स सबसे आगे हैं और उन्होंने फेसबुक की तरफ से करोड़ों रुपये बतौर इनाम जीते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*