एकता और समरसता का संदेश दे रहा यह ट्रस्ट, लोगों के दिलों पर कर रहा पंजीकरण

परिवार और राष्ट्र के लिए संगम और लोकतंत्र में डुबकी और माथे पर तिलक लगाने के लिए 25 वर्ष से एक बिना पंजीकरण ट्रस्ट एकता और समरसता का संदेश दे रहा है। ट्रस्ट के लोगों का मानना है कि हमारा पंजीकरण भले ही न हो लेकिन लोगों के दिलों पर पंजीकरण कर हम सभी धर्म और संप्रदाय के लोग एक दिन परिवर्तन का दौर जरुर लाएंगे।

कुम्भ नगरी में हृदय संगम मानव सेवा ट्रस्ट पिछले 25 वर्षों से स्वच्छता का संदेश दे रहा है। कभी संगम के किनारे साफ-सफाई करके तो कभी लोगों के साथ संगम में तिरंगा लेकर स्नान करते हुए विभिन्न धर्मों और संप्रदायों के लोग इस मानव सेवा ट्रस्ट के माध्यम से लोगों के बीच संदेश दे रहे हैं कि एक डुबकी आप अपने और अपने परिवार के पापों से मुक्ति पाते हुए पुण्य लाभ लेने के लिए और दूसरी डुबकी अपने राष्ट्र के हितार्थ लगाने की लोगों से अपील कर रहे हैं। उनका यह भी संदेश है कि देश-विदेश से आए करोड़ों श्रद्धालु यहां अपने माथे पर चंदन लगवाते हैं,वहीं अपने देश और लोकतंत्र की रक्षा के लिए मतदान करते समय अपनी एक उंगली पर भी चंदन जरुर लगवाएं।

ट्रस्ट के लोंगो का मानना है कि इस कार्य से उन्हें परिवार चलाने में परेशानियां जरुर होती हैं, किन्तु लोग उनके कार्य को सराहते नहीं थकते हैं। कुम्भ के दौरान कई बार ट्रस्ट के सभी लोग तिरंगा हाथ में लेकर डुबकी लगाने के बाद मां गंगा की गोद से राष्ट्रीय गान करते हुए देश के हित की कामना भी कर चुके हैं। उनका मानना है कि उनके इस कार्य से उन्हें अपने अन्तःकरण में खुशी मिलती है। इस ट्रस्ट में हिन्दू, मुस्लिम, सिख व ईसाई चारों धर्मों के लोग शामिल हैं जो लोगों को समरसता और एकता का पाठ पढ़ाते हैं। इनमें गौरव मिश्रा, सत्येन्द्र कुमार जायसवाल, दीपक, इश्तियाक अहमद, डॉ. मोहम्मद फारुख, हरमन सिंह, दलजीत कौर, अरविंद डिसूजा, मोहम्मद आरिफ, मयंक मसीह आदि शामिल हैं।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

बाढ़ से लोगों को बचाने के लिए तैयार किया गया पूर्व सूचना तंत्र, कम होंगे खतरे और ज़ोखिम

GDS संस्था सहयोगी संस्था ऑक्सफेम इंडिया  के द्वारा TROSA परियोजना के अंतर्गत शारदा नदी के …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com