तीन तलाक पर मिलेगी तीन साल की सजा, केंद्रीय कैबिनेट ने बिल को दी मंजूरी

केंद्रीय कैबिनेट ने शुक्रवार को ‘मुस्लिम वीमेन प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स ऑन मैरिज बिल’ को मंजूरी दे दी। इसक बिल के तहत यदि पति, पत्नी को एक बार में तीन तलाक देता है तो उसे तीन साल की जेल हो सकती है। पति को जमानत भी नहीं मिल सकेगी। इसके अलावा पत्नी और बच्चों के लिए हर्जाना भी देना पड़ेगा।

ये भी पढ़े – तीन तलाक पर सरकार के सहयोग के प्रति प्रधानमंत्री को दिया धन्यवाद

बता दें कि तीन तलाक पर केंद्र सरकार कड़ा रुख अपना रही है। सरकार यह कदम सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बावजूद तीन तलाक देने के मामलों को देखते हुए उठा रही है।

यह कानून सिर्फ एक बार में तीन तलाक (तलाक-ए-बिद्दत) पर ही लागू होगा

संसद से बिल के पारित होने के बाद यह कानून सिर्फ एक बार में तीन तलाक (तलाक-ए-बिद्दत) पर ही लागू होगा। यह कानून पीड़िता को खुद और अपने नाबालिग बच्चों के लिए भरण-पोषण और गुजारा भत्ता के लिए मजिस्ट्रेट के पास जाने की शक्ति देगा। पीड़िता नाबालिग बच्चों की कस्टडी भी मांग सकेगी। इस मामले पर मजिस्ट्रेट अंतिम फैसला लेंगे।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

उप्र: परेड रिहर्सल का सिलसिला जारी, चारबाग से निकली गई झांकी, देखें….

गड़तंत्र दिवस 2019 की तैयारियां ज़ोर-शोर से चल रही है। लखनऊ में परेड रिहर्सल का …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com