Breaking News

आज है दक्षिण भारत के भगवान का बर्थडे ,इनको जितना भी जानो कम लगता है

स्पाइडर मैन ,सुपर मैन बाकि जितने भी सुपर हीरो है इस दुनिया में लोग इन सबके  गुरु थलाइवा यानि की रजनीकांत को मानते है चाहे मजाक मे ही सही लेकिन  इन्हें जो कोई न कर पाए वो करने वाला कहा जाता है जिसे असल जिन्दगी मे अगर देखा जाए तो   झूठ भी नहीं कहा जा सकता क्योकि इनके फेन इनके लिए अपनी जॉब तक कुर्वन कर देते है और इनकी मूवी को देखने के लिए छुटी कर दी जाती है पहले स्टार है जिनके पोस्टर तक को दूध से नेह्लाया जाता है आईये जानते है कैसे बने ये इतने लोकप्रिय और कैसे कोई स्टार नहीं टिकता इनके फेन फोल्लोविंग के सामने ,

शानदार फाइव स्टार होटल में होगा विराट-अनुष्का का रिसेप्शन, जानिए कैसा दीखता हैं

 

इन्‍हे दक्षिण भारत मे भगवान की तरह पूजा जाता है। उन्होने अभिनेता के रूप में अपनी शुरुआत राष्ट्रीय फ़िल्म अवार्ड विजेता फ़िल्म अपूर्व रागङ्गल (१९७५) से की, जिसके निर्देशक के. बालाचन्दर थे, जिन्हें रजनीकान्त अपना गुरु मानते हैं।प्रारंभिक चरण में प्रतिनायक की भूमिकाएँ निभाने के बाद (तमिल फ़िल्मों में), वे धीरे धीरे एक स्थापित अभिनेता की तरह उभरे।

 

 

अपने जीवन के कुछ वर्षों में वे तमिल सिनेमा के महान सितारे बन गये और तब से भारत की लोकप्रिय संस्कृति में एक प्रतिमान बने हुए हैं। उनकी खास शैली तथा संवाद बोलने का खास अंदाज़ उनकी जनप्रियता तथा आकर्षण का प्रमुख कारण हैं। अन्य भारतीय क्षेत्रीय फ़िल्मोद्योगों में काम करने के अलावा वे अन्य राष्ट्रों की फ़िल्मों में भी दिखे, जिनमें संयुक्त राज्य अमेरिका की फ़िल्में भी हैं। शिवाजी फ़िल्म में अभिनय के लिए जब उन्हें 26 करोड़ रुपये अदा किये गये तो वे जेकी चान के बाद एशिया के सबसे अधिक भुगतान किये जाने वाले अभिनेता बन गये

शुरुअति कैरियर 

रजनीकांत तमिल फ़िल्म अपूर्व रागंगल (के माध्यम) से अपने फ़िल्म कैरियर शुरू किया,दा-हिंदू से एक समीक्षा ने कहा कि, “नवागंतुक रजनीकांत सम्मानजनक और प्रभावशाली है” कथा संगम (जनवरी, 1975), नई लहर शैली में Puttanna Kanagal द्वारा किए गए एक प्रयोगात्मक फ़िल्म की।

प्रयोगों और सफलता (१९७८-१९८९)

रजनीकांत तमिल, तेलुगू, कन्नड़ और में २० अलग-अलग फ़िल्मों में स्टार रहे साल की उनकी पहली फ़िल्म पी माधवनशंकर सलीम साइमन कि थी।बाद मे उन्हे कन्नड़ फ़िल्म में देखा गया था सह-कलाकार विष्णुवर्धन के साथ देखा गया। रजनीकांत नान षिगप्पु ंअनिथन , Pअदिक्कथवन , श्री भरत , Vएल्ऐकरन , गुरु षिश्यन  और ढर्मथिन ठल्ऐवन तरह व्यावसायिक रूप से सफल फ़िल्मों में अभिनय किया ।  अमेरिकी फ़िल्म उपस्थिति, ड्वाइट लिटिल द्वारा निर्देशित है, जिसमें उन्होंने एक अंग्रेजी बोलने वाले भारतीय टैक्सी ड्राइव कि भुमिका निभाई।रजनीकांत ड़जधि ड़ज​, शिव, राजा चिन्ना रोजा और मप्पिल्ल्ऐ करते हुए भी कुछ बॉलीवुड फ़िल्मों में अभिनय करने सहित फ़िल्मों के साथ एक दशक समाप्त हो गया।राजा चिन्ना रोजा रहते कार्रवाई और एनीमेशन सुविधा के लिए पहली भारतीय फ़िल्म थी।

 

 

अब जल्द ही आपको इनको सुपरहिट मूवी रोबोट 2 देखने को मिलेगी. जिसमे अक्षय कुमार विलेन की भूमिका में होंगे .

#adr

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*