लगातार हार से परेशान कांग्रेस का क्या होगा अप यूपी में स्टैंड |

यूपी में लगातार कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ रहा है | उत्तर प्रदेश में विधान सभा चुनाव नज़दीक है | अब देखने वाली बात ये होगी की कांग्रेस यूपी में जीतने के लिए क्या नये प्लान बनाती है या फिर से वो अपने पुराने ट्रैक को ही अपनाएगी | कांग्रेस की अगर पुरानी रणनीती की बात करे तो कांग्रेस उन वोटरों पर फोकस कर रही है जिनसे वो 15 सालो से सरकार बनाती आ रही है |

 कांग्रेस का 2014 में जो हार का सिलसिला शुरू हुआ, वह अभी तक जारी है। इस बीच पार्टी को न केवल 2014 और 2019 में लोकसभा चुनावों में बुरी हार का सामना करना पड़ा। बल्कि उसे मध्य प्रदेश, कर्नाटक, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, पुडुचेरी में सत्ता गंवानी पड़ी। साथ ही गुजरात,केरल, बंगाल, बिहार, केरल और पूर्वोत्तर राज्यों में हार का सामना करना पड़ा। लगातार हार का आलम यह हुआ कि 2016 से 170 से ज्यादा एमएलए और 7 सांसदों ने पार्टी छोड़ दी। परिणाम यह हुआ कि पार्टी के अंदर बगावत भी शुरू हो गए। और ग्रुप-23 गुट ने नेतृत्व पर सवाल खड़े कर दिए। और पंजाब, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में गुटबाजी बढ़ गई।

अब देखने वाली बात ये होगी की कांग्रेस का ये 15 साल पुराना प्लान काम करता है या नहीं |

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

BSNL अब अपने सभी पोस्टपेड प्लान के साथ इरोज नाउ सब्सक्रिप्शन प्रदान करेगी|

इरोज नाउ ने शुक्रवार को कंटेंट पार्टनरशिप के विस्तार की घोषणा की। इसने अपने प्रीपेड …