लखीमपुर: मृतका के पीड़ित परिजनों ने लगाई एसपी से न्याय की गुहार

लखीमपुर खीरी। जनपद के निकट सीमावर्ती थाना खुटार के अंतर्गत आने लुकटहा निवासी सोबरन लाल पुत्र बेचे लाल ने पुलिस अधीक्षक पीलीभीत को प्रार्थना देकर न्याय की गुहार लगाई है। प्रार्थना पत्र में लिखा है कि उन्होंने अपनी पुत्री रोशनी की शादी दो वर्ष पूर्व अंगद पुत्र होरी लाल निवासी बिल बुझिया गड़ा खुर्द थाना सेहरामऊ उत्तरी जिला पीलीभीत के साथ हिन्दू रीति रिवाज के मुताबिक की थी।

यह भी पढ़ें: बहन ने शेयर की सुशांत के 29 जून के वर्क प्लान की लिस्ट, फिर उठे सवाल

शादी में अपनी सामर्थ के मुताबिक दान दहेज भी दिया था, लेकिन पीड़ित का आरोप है कि उनकी पुत्री के ससुराल वाले इस दान दहेज से संतुष्ट नहीं थे। उनका दामाद अंगद व उसके पिता होरी लाल व सास तथा देवर राजेश व ससुर के भाई राम चन्द्र उपरोक्त लोग एक मोटर साइकिल व 50 हजार रुपये की नकदी की मांग करने लगे, जिसके लिए ससुराल वाले उसको मानसिक व शारीरिक रूप से मारपीट करते हुए प्रताड़ित करते हैं।

प्राथी ने कई बार जाकर अपनी असमर्थता जताते हुए ससुरालवालों को समझाया भी। मायके आने पर मृतका आरती अपने मायकेवालों से दहेज की मांग व प्रताड़ना की बात बताती थी। 6 जुलाई को आरती ने फोन करके अपनी पिता को बताया कि यह लोग कोई मेरे प्रति गलत योजना बना रहे हैं, जब मैं उन लोगों के पास पहुंची तो उन्होंने मुझे डाटकर भगा दिया। मेरे साथ दहेज को लेकर कोई अनहोनी घटना हो सकती है। आप लोग जल्दी आ जाओ, लेकिन 9 जुलाई को रात में 11 बजे उसके ससुरालवालों ने एक राय होकर रोशनी की गला दबाकर हत्या कर दी।

दूसरे दिन यानी 10 जुलाई को सुबह गांव पड़ोस के रहने वालों ने सूचना दी कि रोशनी की हत्या कर दी गई है। सूचना पाकर हम लोग जब रोशनी की ससुराल पहुंचे तब जाकर देखा मेरी मृत पुत्री को कपड़े में लपेटकर चुपचाप दफन करने की योजना बना रहे थे। जब हम लोगों ने अंतिम संस्कार करने के लिए रोका तो उनके ससुरालवालों व अन्य लोगों ने जबरदस्ती गुपचुप तरीके से शव को जला दिया और अधजले शव को पानी में बहा दिया।

प्राथी ने यह भी आरोप लगाया है कि उसके ससुराल वालों व उनके अन्य साथियों ने मायके पक्ष के लोगों को तीन-चार दिनों तक अपने घर में बंधक बनाकर रोके रखा। काफी खुशामद के बाद हम लोग उनके चंगुल से निकल सके। ससुराल वालों ने धमकी देते हुए कहा कि यदि कोई कानूनी कार्रवाई की तो अंजाम बुरा होगा। प्राथी इन लोगों के चंगुल से छूटकर 14 जुलाई को थाना सेहरामुऊ उत्तरी में प्रार्थना पत्र दिया और मोबाइल द्वारा लिए गए पुत्री के मृत अवस्था के फोटो भी दिखाए। जिसमें साफ स्पष्ट हो रहा था कि रोशनी की हत्या की गई है, लेकिन मुल्जिमों की पुलिस की साठ-गांठ के चलते पुलिस ने कोई भी कार्यवाही नहीं की, जिससे विवश होकर न्याय की आस में मजबूर प्राथी ने पुलिस अधीक्षक से जाकर न्याय की गुहार लगाई है। जिससे उसे न्याय मिल सके और साथ ही दोषियों के विरुद्ध दंडनात्‍मक कार्यवाही की जाए।

संवाददाता- लक्ष्मी कान्त गुप्ता

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

लखीमपुर खीरी: पसगवां पुलिस ने धर दबोचा 15 हजार का इनामी बदमाश  

लखीमपुर खीरी। जिले में पुलिस अधीक्षक के निर्देशानुसार अपर पुलिस अधीक्षक खीरी व क्षेत्राधिकारी मोहम्‍मदी …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com