क्या है राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस ? कब से हुई इसकी शुरूआत?

हर साल आज ही के दिन 2 दिसंबर को  प्रदूषण नियंत्रण दिवस माने जाता है पर्यावरण की सुरक्षा की दिशा में काम करने के लिए सितंबर 1974 में भारत में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) का गठन किया गया था। प्रदूषण एक ऐसी समस्या है जिससे सिर्फ इंडिया ही नहीं दुनिया के हर एक देश की समस्या है राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस मनाने का उद्देश्य लोगों को  प्रदूषण के प्रति  जागरूक बनाना है यह  दिन भोपाल गैस त्रासदी की याद में भी मनाया जाता है

भोपाल मध्यप्रदेश की राजधानी हैं भोपाल को मध्यप्रदेश राज्य का प्रशासनिक मुख्यालय भी हैं. इस शहर को झीलों की नगरी भी कहा जाता हैं. इतना खुबसूरत शहर होने के बाद भी इस शहर को गैस त्रासदी से जूझना पड़ा।  इसके पीछे की वजह बनी जय प्रकाश नगर जिसे जेपी नगर भी कहा जाता हैं में स्थित एक फैक्ट्री “यूनियन कार्बाइड इंडिया लिमिटेड”. जिसमे 33 साल पहले अचानक 2-3 दिसम्बर ही मध्य रात्रि प्लाट नंबर सी में फिट मिथाइल आइसो साइनाइट (मिक) लीक होने लग गयी थी ये एक ऐसे घटना थी जिसने पूरी दुनिया को हिला कर रख दया था जिसने रातों रातों हज़ारो लोगो को मौत के नींद सुला दिया। गैस त्रासदी में अपनी जान गंवाने वाले लोगों को सम्मान देने के लिए हर साल यह दिन मनाया जाता है।

यह भी पढ़ें :इस तरह से करें FAUG के लिए प्री रजिस्ट्रेशन, जानिए पूरी खबर… (indiajunctionnews.com)

प्रदूषण के कुछ कारण :- पटाखे फोड़ना , रोड पर चलती गाड़िया ,फैक्ट्री से निकलना धुवां प्रदूषण के कारण है। ऐसे में कुछ ऐसे भोजन है जिसका उपयोग करने से प्रदूषण से होने वाली बेममारियों से बचा जा सकता है।

  1. हरी पत्तेदार सब्जियां:-हरी पत्तेदार सब्जियां सिर्फ प्रदूषण से ही बचाने का काम नहीं करती बल्कि शरीर के लिए काफी लाभदायक मानी जाती है. सब्जियां, चौलाई का साग, गोभी और शलजम में विटामिन्स के तत्व पाए जाते हैं. जो आपको कई बीमारियों से बचाने में मदद कर सकती हैं।
  2. काली मिर्चः काली मिर्च में विटामिन और मिनरल्स के गुण पाए जाते हैं. काली मिर्च को चाय में डालकर इस्तेमाल कर सकते हैं. काली मिर्च पाउडर और शहद को मिलाकर सेवन करने से प्रदूषण के कारण सीने में जमा हुए कफ से निजात पाया जा सकता है।
  3. अदरकः अदरक को औषधीय गुणों का खजाना कहा जाता है. अदरक खाने से इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाया जा सकता है. ये प्रदूषण से बचाने में मदद कर सकता है. अदरक को आप चाय या शहद के साथ इस्तेमाल कर सकते हैं।
  4. आंवलाः प्रदूषण से बचने के लिए आप अपनी डाइट में आंवला शामिल कर सकते हैं. आंवला को विटामिन सी का अच्छा स्त्रोत माना जाता है. विटामिन सी शरीर के लिए सबसे शक्तिशाली एंटी-ऑक्सिडेंट है, जो फ्री रैडिकल की सफाई करने में मदद कर सकता है।

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

किसान आंदोलन : कानून वापसी के अलावा सभी पर चर्चा को तैयार सरकार – नरेंद्र सिंह

नई दिल्ली : केंद्र की मोदी सरकार के द्वारा लाये गए तीनों नए कृषि कानून …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com