ईद-ए-मिलाद का महत्व और इतिहास क्या हैं , जानियें पूरी खबर

लाइफस्टाइल डेस्क | इस अवसर पर ईद-ए-मिलाद का पर्व 29 अक्टूबर और 30 अक्टूबर को मनाया जा रहा है। इस्लामिक कैलेंडर के मुताबिक, यह पर्व तीसरे महीने में मनाया जाता है। इस पर्व को सूफी या बरेलवी मुस्लिम अनुयायी मनाते हैं। इनके लिए यह दिन बेहद खास होता है। इस दिन को इस्लाम धर्म के अंतिम पैगंबर यानी पैगंबर मोहम्मद की जयंती के तौर पर मनाया जाता है। यह त्योहरा 29 अक्टूबर को शुरू होकर 30 अक्टूबर की शाम को खत्म होगा। जो लोग इस्लाम धर्म को मानते हैं वो मोहम्मद साहब के प्रति बेहद ही आदर-सम्मान का भाव रखते हैं। आइए जानते हैं ईद-ए-मिलाद का इतिहास और महत्व।

ईद-ए-मिलाद का इतिहास
इस्लामिक मान्यताओं के मुताबिक, 571 ई में इस्लाम के तीसरे महीने यानी रबी-अल-अव्वल की 12वीं तारीख को मुस्लिम समुदाय के लोग इस्लाम के अंतिम पैगंबर यानी पैगंबर हजरत मोहम्मद की जयंती मनाते हैं। वहीं, इसी रबी-उल-अव्वल के 12वें दिन ही पैगम्बर मोहम्मद साहब का इंतकाल भी हो गया था। पैगंबर हजरत मोहम्मद का जन्म मक्का में हुआ था। इसी जगह पर स्थित हीरा नाम की एक गुफा है जहां इन्हें 610 ई. में ज्ञान प्राप्त हुई था। इसके बाद ही मोहम्मद साहब ने कुरान की शिक्षाओं का उपदेश दिया था।

ईद-ए-मिलाद का महत्व
ईद-ए-मिलाद को मुस्लिम समुदाय के लोग पैगंबर मोहम्मद की पुण्यतिथि के रुप में मनाते हैं। इस त्योहार को मिस्र में आधिकारिक उत्सव के तौर पर मनाया जाता था। हालांकि, बाद में 11वीं शताब्दी में यह लोकप्रिय हो गया। इस त्योहार को बाद से सुन्नी समुदाय के लोग भी ईद-ए-मिलाद का उत्सव मनाने लगे।

 

edited by… preeti jaiswal

प्रदेश की धड़कन, 'इंडिया जंक्शन न्यूज़' के ताजा अपडेट पाने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से...

Check Also

बेसन पकौड़े वाली कढ़ी खाकर हो गए हैं बोर तो अब ट्राई करें आलू कढ़ी की ये टेस्टी

लाइफस्टाइल डेस्क | Kadhi Recipe: कढ़ी का स्वाद हर किसी को बेहद भाता है। लेकिन …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com