इंग्लैंड की वजह से हुए बाहर अब मिला मौका

न्यूज़ीलैंड के खिलाफ टेस्ट में 3-0 से क्लीन-स्वीप करने के बाद अब एक बार फिर से भारतीय टेस्ट टीम कप्तान विराट कोहली की अगुवाई में इंग्लैंड को अपनी सरज़मीं पर पटखनी देने के मूड में है. टीम इंडिया की तैयारियों को पर्याप्त समय देने के लिए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने टीम इंडिया का ऐलान कर दिया है जिसमें हार्दिक पांड्या एक नया उभरता हुआ चेहरा नज़र आए लेकिन एक खास खिलाड़ी ने इस दौरे के पहले दो टेस्ट मुकाबलो के लिए भारतीय टीम में वापसी की है.

जी हां हम बात कर रहे हैं टीम इंडिया के स्टार ओपनर गौतम गंभीर की. गौतम गंभीर को न्यूज़ीलैंड के खिलाफ आखिरी टेस्ट के लिए टीम इंडिया में चुना गया लेकिन लगभग 2 साल के बाद उन्हें पहली बार भारत की पूर्णकालिक टीम में चुना गया. इंग्लैंड के खिलाफ गौतम गंभीर की वापसी की खास बात ये भी है कि उन्हें इंग्लैंड की वजह से ही टीम इंडिया से 2 साल पहले हाथ धोना पड़ा था.

साल 2014 में इंग्लैंड के खिलाफ गौतम गंभीर भारतीय टीम के लिए बल्लेबाज़ी करने उतरे और वो मैनचेस्टर और ओवल में खेले गए दो टेस्ट मुकाबलो में महज़ 25 रन ही बना सके. जिसमें एक बार वो शून्य के स्कोर पर भी आउट हुए. जिसके बाद गंभीर को टीम इंडिया से बाहर का रास्ता भी दिखा दिया गया. 2014 में ही नहीं इससे पहले साल 2012 में भी गंभीर इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू सरज़मीं पर खेले 3 टेस्ट मुकाबलो के बाद बाहर हुए थे. हालांकि इस बार उनका प्रदर्शन औसत था.

गंभीर ने साल 2012 में इंग्लैंड के खिलाफ 3 टेस्ट मुकाबलो में 2 अर्दशतकीय पारियों के साथ 251 रन बनाए थे.

लेकिन इंग्लैंड ही वो टीम है जिसने पिछले 45 सालों में गंभीर के क्रिकेटिंग करियर पर ग्रहण लगाया है और खुद गंभीर के लिए ये बेहद ही शानदारल मौका है कि उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ ही घरेलू सरज़मीं पर एक बार फिर से वापसी करने का मौका मिल रहा है.

हाल ही में रणजी ट्रॉफी के एक मुकाबले में गंभीर ने शानदार 147 रनों की पारी खेली है. जबकि न्यूज़ीलैंड के खिलाफ खेले एकमात्र टेस्ट में भी गंभीर ने ज़रूरत के हिसाब से एक पारी में अर्धशतक और दूसरी में 29 रन बनाए थे.

 

 

 

Check Also

टी20 विश्वकप से बाहर होने के बावजूद भारतीय टीम रैंकिंग में नंबर वन

भारतीय टीम टी20 विश्वकप के सेमीफाइनल में बाहर हो जाने के बावजूद भारतीय टीम टी20 …