इस व्रत का प्रभाव देवताओं को भी दुर्लभ है। विद्यादान से होती है पुण्य की प्राप्ति

अश्वेमघ यज्ञ, भूमिदान, अन्नादान और विद्यादान से तो पुण्य की प्राप्ति होती ही है लेकिन एकादशी व्रत करने से मिलने वाला पुण्य सबसे अधिक होता है। इस व्रत का प्रभाव देवताओं को भी दुर्लभ है।

मार्गशीर्ष या अगहन में कृष्णभक्ति विशेष महत्व रखती है। इस माह में कृष्ण पक्ष को पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के नाम से जाना जाता है। शास्त्र कहते हैं कि इस दिन व्रत करने से हजारों यज्ञों से भी ज्यादा फल प्राप्त होता है।

images-10

जो भी इस दिन यह व्रत करते हैं उन्हें व्रत की कथा श्रवण और कृष्ण मंदिर में जाकर भगवान की मनोहारी छवि के दर्शन जरूर करना चाहिए। माना जाता है कि इस दिन से एकादशी व्रत की शुरुआत हुई थी क्योंकि सतयुग में इसी तिथि को भगवान विष्णु के शरीर से देवी का जन्म हुआ था। देवी ने भगवान विष्णु के प्राण बचाए जिससे प्रसन्ना होकर विष्णु ने इन्हें देवी एकादशी का नाम दिया।

इस संदर्भ की कथा आती है कि मुर नामक असुर से युद्ध करते हुए जब भगवान विष्णु थक गए तब बद्रीकाश्रम गुफा में जाकर आराम करने लगे। मुर उनका पीछा करता हुआ उस गुफा तक आ पहुंचा।

भगवान जब निद्रा में लीन थे तभी मुर ने उन्हें मारना चाहा और भगवान के शरीर से एक देवी का जन्म हुआ जिसने मुर का वध कर दिया।

देवी के इस पराक्रम से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु बोले कि हे! देवी तुम्हारा जन्म मार्गशीर्ष मास की कृष्ण पक्ष एकादशी को हुआ है इसलिए तुम्हारा नाम एकादशी होगा। आज से प्रत्येक एकादशी को मेरे साथ तुम्हारी भी पूजा होगी।

जो भी एकादशी का व्रत करकेग वह समस्त तरह के पापों से मुक्त हो जाएगा। यहीं से एकादशी व्रत की विशेष महत्ता का आरंभ हुआ। एकादशी भगवान विष्णु की माया से प्रकट हुईथी। शास्त्रों के अनुसार जो व्यक्ति श्रद्धा भाव से उत्पन्ना एकादशी का व्रत करता है वह मोहमाया के प्रभाव से मुक्त होकर उनके धाम को प्राप्त करता है।

जो मनुष्य श्रद्धापूर्वक यह व्रत करता है उन्हें तीर्थ में स्नान करके भगवान के दर्शन करने से जो फल प्राप्त होता है वह एकादशी व्रत के 16 वें भाग के समान भी नहीं है। व्यतिपात के दिन दान देने का लाख गुना फल प्राप्त होता है। संक्रांति से 4 लाख गुना तथा सूर्य-चंद्र ग्रहण में स्नान से जो पुण्य प्राप्त होता है, वही पुण्य एकादशी के दिन व्रत करने से मिलता है।

Check Also

कैसा रहेगा आज का दिन? क्या कहते हैं आपके सितारे?

मेष राशि (Aries Horoscope Today)किसी मित्र से कारोबार का प्रस्ताव मिल सकता है। माता से …