एक नंबर की दो गाड़ियाँ, खुद चला रही है पुलिस!

मेरठ:  एक नंबर की दो कारों ने बुधवार को दिनभर शहरवासियों को परेशान रखा। एक कार मारुति एस्टीम है, जो नौचंदी थाने में एसओ कार्यालय के बाहर खड़ी है। वहीं दूसरी कार इंडिका है, जो नौचंदी थाने के बराबर की गली में खड़ी है। मारुति एस्टीम कार को नौचंदी थाने का प्रत्येक पुलिसकर्मी दिन-रात गश्त, दबिश और अपने निजी कामों में ले जाते हैं। मामला संज्ञान में आने के बाद एसएसपी ने जांच बैठा दी है, वहीं इंस्पेक्टर नौचंदी से जबाब-तलब किया जाना है।

मारुति एस्टीम कार संख्या: यूपी-15वाई-9824 खड़ी है, जिसे पुलिसकर्मी चलाते हैं। इसी नंबर की टाटा-इंडिका सफेद रंग की कार थाने के बराबर में मंदिर से सटी खड़ी है। पुलिस सूत्रों की मानें तो दोनों ही कारें पुलिस ने बरामद की थी, जिन पर नंबर प्लेट एक ही है, मगर खाकी ने खेल करते हुए एक कार गली में खड़ी कर दी। दूसरी कार को थाने में खड़ी कर उसको अपने कामों में इस्तेमाल किया जा रहा है। इस प्रकरण में इंस्पेक्टर नौचंदी एसके राणा का कहना है कि मेरे संज्ञान में ऐसा कुछ नही है। जानकारी की जाएगी।

 

क्या कहता है कानून

अगर, किसी बदमाश से गाड़ी बरामद होती है अथवा, लावारिस हालत में कहीं खड़ी हुई गाड़ी पुलिस के कब्जे में आ आती है तो उस पर केस दर्ज कर गाड़ी को केस प्रॉपर्टी में दिखाती है। थाने में खड़ी गाड़ी अथवा कोई भी सामान माल खाने में जमा होता है, जिसकी जिम्मेदारी मालखाना इंचार्ज की होती है। कोर्ट सम्पत्ति से छेड़छाड़ की जाती है तो मालखाना इंचार्ज के साथ थाना एसओ भी कार्रवाई की जद में आते हैं।

 

इनका कहना है..

एक ही नंबर की दो गाड़ी कैसे चल रही हैं, जिसमें से एक गाड़ी को खुद थाना पुलिस चला रही है। इंस्पेक्टर से जबाव-तलब किया जाएगा। इंडिका कार किसकी है, उससे भी पूछताछ की जाएगी।

-जे. रविन्दर गौड, एसएसपी।

 

Check Also

पद्मभूषण से सम्मानित कौन?

धरती पुत्र मुलायम सिंह यादव जो इस संसार में नही है उनका कार्यकाल काफी लंबे …