कालभैरव को कराया जाता है मदिरा पान श्रृंगार कर पूजा-अर्चना की गई।

उज्जैन। भैरव जयंती पर सोमवार को नगर में स्थित अष्ट महाभैरव मंदिरों में भक्ति का उजास फैला। प्रसिद्ध कालभैरव मंदिर में सुबह भगवान का अभिषेक पूजन हुआ। रात को जन्मोत्सव मनाया गया। यहां विराजित भगवान कालभैरव को प्रसाद के रुप में शराब अर्पित की जाती है। काल भैरव को क्षेत्रपाल के साथ ही कुलदेवता के रुप में भी पूजा जाता है।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                             kaal

महाअभिषेक के बाद शाही पगड़ी धारण

सुबह पुजारियों ने बाबा कालभैरव का महाअभिषेक किया। इसके बाद शाही पगड़ी धारण कराकर आकर्षक श्रृंगार किया गया। मध्य रात्रि में 12 बजे जन्म आरती की गई और इसके बाद भगवान को मदिरा का भोग लगाया गया। भंडारे में सैकड़ों भक्तों ने प्रसादी ग्रहण की, इस दौरान कचोरी-समोसे भी वितरीत किए गए।

इसलिये प्रसिद्ध है काल भैरव मंदिर

शहर से काल भैरव का मंदिर शहर से करीब 8 किलोमीटर शिप्रा नदी के तट पर बना हुआ है। श्रद्धालुओं को यहां आने पर अलग अनुभव होता है। काल भैरव की प्रतिमा के मुंह के आगे मदिरा से भरी प्याली रखने पर वह खाली हो जाता है। अब तक कोई पता नहीं लगा पाया कि शराब कहां चली जाती है।

क्यों चढ़ाते हैं शराब

पंडितों का कहना है कि इस प्रतिमा को शराब चढ़ाने के पीछे लोगों का मानना है कि वे अपने बुरे गुण भगवान के आगे छोड़ देते हैं। पहले यहां केवल तांत्रिक ही आ सकते थे। मगर अब सुबह से शाम तक बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां आकर प्रतिमा को शराब अर्पित करते हैं।

ऐसे प्रकट हुए थे काल भैरव

पुराणों में बताया गया है कि ब्रह्माजी ने भगवान शिव का अपमान किया था तब भोलेनाथ क्रोधित हुए। इसके बाद शिव के नेत्रों से कालभैरव प्रकट हुए थे और उन्होंने क्रोधित होकर ब्रह्मा का पांचवां सिर काट दिया था।

पुराणों में वर्णन है कि काल भैरव मंदिर का निर्माण राजा भद्रसेन ने करवाया था।इसके बाद राजा जयसिंह ने मंदिर को नया रूप दिया।

शहर में अनेक मंदिर

सिंहपुरी स्थित आताल पाताल भैरव, चक्रतीर्थ स्थित बटुक भैरव, भागसीपुरा स्थित आनंद भैरव, गढ़कालिका स्थित कुचेरा भैरव मंदिर में भी भगवान का आकर्षक श्रृंगार कर पूजा-अर्चना की गई। देर रात तक दर्शनार्थियों का तांता लगा रहा। मंगलवार को कालभैरव मंदिर से बाबा की सवारी निकलेगी। शाम 4 बजे शाही ठाठबाट के साथ भगवान कालभैरव नगर भ्रमण के लिए रवाना होंगे। सिंहपुरी स्थित आताल पाताल भैरव मंदिर से भी शाम 6 बजे महाभैरव की सवारी निकलेगी।

Check Also

महाकालेश्वर मंदिर में श्रद्धालुओं ने मचाया हड़कंप

महाकालेश्वर मंदिर के गर्भगृह में पूजा को लेकर श्रद्धालुओं में आगे निकलने की होड़ मच …