कुख्यात अपराधी आनंदपाल के साथी हथियारों के साथ आये पुलिस के गिरफ्त में

राजस्थान पुलिस की विशेष शाखा एटीएस एवं एसओजी ने कुख्यात अपराधी आनंदपाल गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया है.

अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस उमेश मिश्रा ने बताया कि कुख्यात अपराधी आनंदपाल के सहयोगी अनुराग गर्ग उर्फ चीनू, संजय गर्ग उर्फ संजु और राजू जायसवाल को एक रिवाल्वर व एक देशी कट्टा के साथ जयपुर से आज गिरफ्तार किया गया है.

उन्होंने बताया कि तीनों आरोपियों से पूछताछ की जा रही है और उन्हें शनिवार को न्यायालय में पेश किया जाएगा.

उल्लेखनीय है कि आनंदपाल फरारी मामले में अब तक का जो सबसे बड़ा राज था कि आनंदपाल फरार क्यूं हुआ? इस राज से अब धीरे-धीरे पर्दा उठने लगा है. गुढ़ा भगवानदास मुठभेड़ में आनंदपाल के साथ मौजूद गुर्गे कुलदीप से पूछताछ में यह खुलासा हुआ है. कुलदीप ने पुलिस पूछताछ में यह राज खोला है. कुलदीप की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने उसकी चार्जशीट परबतसर कोर्ट में पेशी की है.

ईटीवी के पास कुलदीप से की गई पूछताछ नोट के कुछ अंश हैं. इसमें यह खुलासा हुआ है कि जीवन गोदारा हत्याकांड के गवाह लगातार अपनी गवाही डीडवाना कोर्ट में दे रहे थे. दूसरी तरफ अनुराधा दी गई टास्क में कई बार विफल हो गई.

लेडी डॉन को दिया गया था ये टास्क:

गोदारा हत्याकांड के मुख्य गवाह प्रमोद के भाई इंद्रचंद के अपहरण में सफल रहने के बावजूद अनुराधा व उसकी टीम ज्यादा दिन तक इंद्रचंद को अपने साथ संभाल कर नहीं रख सकी और एक दिन उसने मौका देखकर किसी के माध्यम से पुलिस को सूचित कर दिया और पुलिस इंद्रचंद को पुणे-मुम्बई फॉरलेन स्थित एक रिसोर्ट से छुड़ाकर ले आई. इसके बाद मुख्य गवाह की सुरक्षा बढ़ा दी गई और पुलिस तैनात कर दी. ऐसे में लेडी डॉन अनुराधा के अपहरण और धमकी के प्लान फेल हो गए.

 

 

Check Also

आखिर क्यों बरसे भाजपा पर खड़गे ?

राहुल गांधी , गांधी परिवार के चौथे नेता के रूप में पठानकोट में जनसभा करने …