खुद बोती हैं ये चीटियां कॉफी के बीज और करती हैं खेती

म्यूनिख। फिजी द्वीप पर वैज्ञानिकों ने एक विशेष प्रकार की चींटी की प्रजाति का पता लगाया है। यह अपने लिए कॉफी के पौधों को बोती है, उनका निषेचन कराती है और उनकी रखवाली भी करती है।

खेती-बाड़ी के बारे में उनकी जानकारी लाखों साल पुरानी है। इस विशेष नस्ल को ‘Phildris nagasau’ के नाम से जाना जाता है। वे कॉफी के पौधों को सिर्फ बोना ही नहीं जानती हैं, बल्कि बाद में कॉफी के पौधों का उपयोग रहने की जगह के रूप में भी करती हैं।

म्यूनिख के लुडविग मैक्सीमिलिएन विश्वविद्यालय की वनस्पतिशास्त्री सुसैन रेनर बताती हैं कि चीटी की यह पहली प्रजाति है, जो अपने लिए खुशबूदार घर का निर्माण करती है। ये चींटियां हफ्तों तक कॉफी के बीज डालकर खेती करती हैं, जबकि शुरू में उन्हें इससे कोई सीधा लाभ नहीं होता है।

महीनों के इंतजार के बाद वे अपने नए और खुशबूदार निवास में रहने के लिए चली जाती हैं। आमतौर पर यह समय तीन से पांच महीने का होता है। रेनर कहती हैं कि यह एक किसान की तरह अपनी फसलों पर ध्यान देती हैं।

वैज्ञानिक ने आगे दावा किया कि उनका व्यवहार बिल्कुल सहज है। चींटियों को पता होता है कि वे किस बीज का रोपण कर रही हैं। उनके अध्ययन बताता है कि इसी तरह के व्यवहार का प्रदर्शन अन्य जीवों में सामाजिक कीड़े जैसे मधुमक्खियां या दीमक ही करते हैं। इसका कारण यह है कि इस प्रक्रिया में टीमवर्क यानी साथ में काम करने की जरूरत होती है।

 

Check Also

पीएम मोदी ने दी पाकिस्तान को चेतावनी,’नो मनी फॉर टेरर’ सम्मेलन का किया उद्घाटन

पीएम मोदी ने आतंक के खिलाफ उठाए अहम कदम, अब होगा आतंक का खात्मा। राष्ट्रीय …