अब घर पर ही मिलेंगे हेल्थ टिप्स की पूरी जानकारी

अब महिलाओं और बच्चों को घर पर ही हेल्थ टिप्स मिलेंगे। उन्हें स्वास्थ्य सेवाओं के प्रति न सिर्फ जागरूक बनाया जाएगा बल्कि बेहतर इलाज मयस्सर कराने में भी मदद की जाएगी।
इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की पहल पर महिला आरोग्य समिति का गठन जल्द किया जाएगा। इस नई योजना का उद्देश्य उन महिलाओं तक इलाज पहुंचाना है जो अपनी सेहत को लेकर जागरूक नहीं हैं या फिर वे किसी कारणवश अस्पताल तक नहीं पहुंच पाती हैं।

समिति के सदस्य नियमित समय पर क्षेत्रवार दौरा कर पूरे आंकड़े जुटाएंगे। वे घर-घर जाकर किसी भी बीमारी से पीड़ित महिलाओं का पूरा ब्यौरा जुटाएंगे और उसके बाद इलाज संबंधी जानकारी भी देंगे।

इस सुविधा के तहत दस हजार की आबादी पर एक एएनएम तैनात होगी। हर मोहल्ले के सौ घर में एक महिला सदस्य होगी। इन सबकी निगरानी के लिए क्षेत्र के सबसे नजदीकी अस्पताल के किसी विशेषज्ञ को प्रभारी बनाया जाएगा।

आरोग्य समिति के गठन के लिए 228 एएनएम का चुनाव होगा और ट्रेनिंग देने के बाद नए साल में इनको महिला आरोग्य समिति से जोड़ दिया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक, सौ में से तीन महिलाएं अपना और बच्चों का इलाज अस्पताल में कराने के बजाए घर पर ही करती हैं।
महिलाओं का यह रवैया उन्हें गंभीर बीमारियों की ओर धकेलता है। अधिकारियों को उम्मीद है कि इस नई व्यवस्था के बाद उन लोगों को भी इलाज मुहैया मिल सकेगा जो जानकारी या किसी संकोच के कारण अस्पताल नहीं पहुंचते हैं।

सीएमओ कार्यालय के एक अधिकारी बताते हैं कि एएनएम, आशा बहू और एक महिला सदस्य के साथ अन्य इच्छुक लोग भी समिति से जुड़कर काम कर सकते हैं।

समिति के सदस्य घर-घर जाकर बच्चों के टीकाकरण व परिवार नियोजन की जानकारी देंगे। क्षेत्र के प्रभारी इस टीकाकरण का रिकॉर्ड विशेष स्वास्थ्य कार्ड में रखेंगे। परिवार नियोजन संबंधी जानकारी भी घर के सदस्यों को दी जाएगी।

‘महिला आरोग्य समिति के गठन की तैयारी चल रही है और जनवरी 2017 से इस व्यवस्था को लागूू किया जाएगा। समिति का काम उन लोगों को इलाज मुहैया कराना होगा जो किसी कारण से अस्पताल नहीं जाते हैं। टीकाकरण, परिवार नियोजन संबंधी जानकारी से भी लोगों को अवगत कराया जाएगा।’

Check Also

जानिए यूपी में कब होगा तापमान शून्‍य से भी नीचे

यूपी में कडकडाती ठण्ड लगातार जारी है साम होते ही कोहरे का कहर जारी है. …