जवानों की तैनाती को ममता ने बताया था साजिश

कोलकाता- पश्चिम बंगाल से 72 घंटे बाद सेना हटा ली गई। यहां के टोल नाकों पर सेना की डाटा कलेक्शन की एक्सरसाइज पूरी हो गई है। सेना के ईस्टर्न कमांड के पीआरओ विंग कमांडर एसएस बिरदी ने कहा, “एक्सरसाइज पूरी होने के बाद हमने शुक्रवार रात पल्हिट टोल प्लाजा और दूसरे इलाकों से जवानों को वापस बुला लिया है।” बता दें कि सेना की तैनाती को लेकर ममता बनर्जी ने नाराजगी जताई थी और करीब 30 घंटे तक सेक्रेटेरियट में ही रुकी थीं।
ममता ने लीगल एक्शन की बात कही थी…
– शुक्रवार को सेक्रेटेरिएट से बाहर निकलकर ममता बोलीं- “प. बंगाल से सेना नहीं हटाई गई तो वो लीगल एक्शन लेंगी।”
– हालांकि, गुरुवार को ममता ने ट्वीट किया था कि जब तक आर्मी नहीं हटाई जाती वो राज्य सचिवालय से बाहर नहीं आएंगी। लेकिन करीब 30 घंटे बाद वो बाहर आ गईं।
– ममता ने आरोप लगाया था कि सेना की तैनाती की जानकारी केंद्र ने प. बंगाल को नहीं दी थी। उन्होंने इस पर आश्चर्य जताते हुए कहा था कि क्या केंद्र इमरजेंसी लगाने की कोशिश कर रहा है।
– उधर, ईस्टर्न कमांड ने कहा- “सेना की तैनाती रूटीन एक्सरसाइज है। इसकी जानकारी प. बंगालmamata-new_1480744048 की पुलिस को दी गई थी। उसके को-ऑर्डिनेशन में एक्सरसाइज की गई।”
– सेना ने इसके सबूत के तौर पर कुछ लेटर भी जारी किए।
लीगल एक्शन की बात पर ईस्टर्न कमांड ने कहा था- नहीं हटेगी सेना
– ईस्टर्न कमांड के पीआरओ विंग कमांडर एसएस बिरदी ने शुक्रवार को कहा, “आर्मी की तैनाती रूटीन एक्सरसाइज का हिस्सा है। जब तक ये पूरी नहीं होती, इसे बंद नहीं किया जाएगा।”
– उन्होंने कहा, “प. बंगाल में तैनात आर्मी को नहीं हटाया जाएगा। शुक्रवार आधी रात तक एक्सरसाइज जारी रहेगी।
– टोल बूथ पर तैनाती और एक्सरसाइज के सिलसिले में राज्य सरकार को लिखे पत्र भी सेना ने जारी किए।
– मेजर जनरल सुनील यादव ने GOC बंगाल एरिया (ऑफिशिएटिंग) ने कहा कि लोकल पुलिस के को-ऑर्डिनेशन से ये एक्सरसाइज की जा रही है।
– “कोलकाता पुलिस ने 28 नवंबर को भारत बंद के चलते तारीखें बदलने को कहा था। इसके बाद ये एक्सरसाइज 27-28 की जगह 30 नवंबर से 2 दिसंबर तक की गई।”
– सुनील यादव ने कहा, “27 नवंबर को पुलिस के दो अधिकारियों के साथ सर्च ऑपरेशन चलाया गया। पुलिस को सूचना दी गई।”
डाटा कलेक्शन एक्सरसाइज- आर्मी
– सुनील यादव ने बताया था, “ईस्टर्न कमांड लोकल प्वाइंट्स पर आर्मी तैनात करके एनुअल डाटा कलेक्शन एक्सरसाइज को ऑपरेट कर रही है।”
– “पूरे रीजन में ऐसे 80 से ज्यादा डाटा प्वाइंट हैं, जहां 5-6 अनआर्म्ड आर्मी जवान तैनात हैं, जो हेवी व्हीकल का डाटा कलेक्ट कर रहे हैं।”
– “इस एक्सरसाइज में नॉर्थ-ईस्ट के सभी राज्यों असम, अरुणाचल, वेस्ट बंगाल, मणिपुर, नगालैंड, मेघालय, त्रिपुरा, मिजोरम और सिक्किम से डाटा कलेक्ट किया जा रहा है।”
– “ऐसी ही एक्सरसाइज झारखंड, यूपी और बिहार में इसी साल 26 सितंबर से 1 अक्टूबर के बीच हुई।”
रक्षा मंत्री ने ममता के बयान को कहा ‘पॉलिटिकल फ्रस्टेशन’
– TMC ने लोकसभा में मुद्दा उठाया तो रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने शुक्रवार को कहा, “आर्मी की रूटीन एक्सरसाइज पर विवाद खड़ा करना एक तरह का पॉलिटिकल फ्रस्टेशन है।”
– “पिछले कई साल से ये एक्सरसाइज जारी है। यूपी, बिहार और झारखंड में भी ये एक्सरसाइज की गई। इससे पहले राज्यों के प्रशासन और पुलिस को जानकारी दी गई।”
– प. बंगाल सरकार को जानकारी देने पर पर्रिकर बोले, “पुलिस को इसकी पूरी जानकारी थी। भारत बंद के चलते पुलिस की सलाह पर इसका समय बदला गया था। पूरा अभियान पुलिस के साथ संयुक्त रूप से चलाया गया।”

Check Also

आखिर क्यों बरसे भाजपा पर खड़गे ?

राहुल गांधी , गांधी परिवार के चौथे नेता के रूप में पठानकोट में जनसभा करने …