दिल्ली का हाल बेहाल, सातवें दिन भी घुट रहा लोगों का दम

indiaairpollultion_147841557517_650x425_110616123115दीपावली में छूटने वाले पटाखों से होने वाले प्रदूषण ने पूरी दिल्ली को अपने चपेट में ले लिया है. पूरी दिल्ली और आसपास के इलाके में स्मॉग का कहर है. प्रदूषण पर चिंता जाहिर करते हुए केंद्र सरकार ने इसे ‘इमरजेंसी’ करार दिया है. सोमवार को दिल्ली और उसके पड़ोसी राज्यों (यूपी, हरियाणा और पंजाब) के पर्यावरण मंत्रियों की मीटिंग बुलाई है, जबकि दिल्ली में प्रदूषण को लेकर सीएम केजरीवाल ने आज अपने घर पर कैबिनेट की आपातकालीन बैठक बुलाई है.

प्रदूषण को लेकर जंतर-मंतर में प्रदर्शन

प्रदूषण से निपटने में दिल्ली सरकार की लापरवाही को लेकर जंतर-मंतर पर बच्चे और लोग प्रदर्शन करने पहुंचे हैं. एक प्रदर्शनकारी ने कहा, ‘दिल्ली में प्रदूषण से सांस लेना बेहद मुश्किल हो गया है. बच्चों की सेहत बिगड़ रही है. अगर जल्द ही कुछ नहीं किया गया, तो भविष्य खतरे में है. हमलोग हर रविवार को जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करेंगे. सरकार को हमारी सुननी पड़ेगी.’ बता दें, सुबह 10 बजे तक दिल्ली के आरके पुरम में हवा की गुणवत्ता 999, इंदिरा गांधी एयरपोर्ट में 436, पंजाबी बाग में 999 और शांति पथ में 662 रिकॉर्ड की गई.

 नहीं हो पा रहा रणजी मैच

दिल्ली में जहरीले स्मॉग का असर खेलों पर भी पड़ा है. यहां दो दिन से रणजी मैच नहीं हो पा रहा है. रविवार को राजधानी के करनैल सिंह स्टेडियम में त्रिपुरा और हैदराबाद के बीच मैच के लिए प्लेयर्स मास्क लगाकर स्टेडियम पहुंचे.

आरोप-प्रत्यारोप

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे ने कहा, ‘प्रदूषण से दिल्ली में इमरजेंसी के हालात हैं. ये स्थिति खासकर बच्चों, बुजुर्गों और मरीजों के लिए बेहद खतरनाक है. हमें इससे निपटने के लिए जल्द से जल्द कदम उठाने होंगे.’ अनिल माधव ने अपील की है कि दिल्ली के प्रदूषण को लेकर कोई भी राजनीतिक पार्टी आरोप-प्रत्यारोप का खेल ना खेले और इस समस्या से निपटने में सहयोग करे. बता दें, नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) की फटकार के बाद दिल्ली सरकार हरकत में आई है. हालांकि, राजधानी में बढ़े प्रदूषण के लिए सीएम अरविंद केजरीवाल ने सीधे तौर पर पड़ोसी राज्यों को कसूरवार ठहराया है.

nasa-650_110616104529प्रदूषण से 6 गुना बढ़ी सांस के मरीजों की संख्या

दरअसल, दिल्ली में लगातार चौथे दिन भी स्मॉग की स्थिति जस की तस है. बढ़ते प्रदूषण को लेकर रिपोर्ट में हर रोज नए खुलासे हो रहे हैं. दिल्ली में प्रदूषण ने 17 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. आप सुनकर सन्नाटे में आ जाएंगे कि दिल्ली वालों के फेफड़े 40 सिगरेट के बराबर धुआं रोज़ सोख रहे हैं. रिपोर्ट की मानें तो दिल्ली सामान्य से 20 गुना ज्यादा प्रदूषित हो गई है. दिल्ली में हर चौथे बच्चे को फेफड़े की शिकायत है. जिससे अस्पतालों में 25 फीसदी तक मरीज़ बढ़ गए हैं. यही नहीं, सांस के मरीज़ों की संख्या 5 से 6 गुना बढ़ गई है.

दिल्ली स्वास्थ्य मंत्री ने लिया भलस्वा का जायजा

जानकार बताते हैं कि दिवाली पर पटाखों के प्रदूषण के साथ ही कचरे के सुलगते ढेर हवाओं को और जहरीला बना रहे हैं. पर्यावरण की फिक्र में एनजीटी ने सरकार को फटकार लगाई तो फौरन दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन भलस्वा पहुंच गए. सब लोग एनजीटी की फटकार के बाद मुआयने में जुट गए हैं. लेकिन इलाज किसी के पास नहीं है. जहरीले स्मॉग का असर दिल्ली के सीएम के दर तक है. लेकिन सीएम साहब जितना फिक्रमंद अपने ऊर्जा सचिव को हटाए जाने को लेकर हैं उतना स्मॉग पर नहीं दिखे.

Check Also

गुजरात नगरपालिका ने मोरबी पुल टूटने की ली जिम्मेदारी :

गुजरात हाई कोर्ट में आज आखिर मोराबी नगर पालिका ने यह बात स्वीकार किया कि …